UA-128663252-1

एमपी में जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत, सीएम शिवराज की कठोर कार्रवाई

नई दिल्ली: जहां एक तरफ देश में कोरोना जैसी महामारी से न जाने रोज कितने लोगों की जान जा रही है वहीं मध्यप्रदेश के उज्जैन में जहरीली शराब पीने से अबतक 14 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में 13 मजदूर थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट और पुलिस की जांच से पता चला कि मौतें जहरीली शराब पीने से हुई हैं। सीएमएचओ के मुताबिक मजदूरों की मौत जहरीली शराब जिंजर पोटली पीने से ही हुई है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एसआईटी (SIT) जांच के निर्देश दिए हैं। वहीं इस मामले में अबतक चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया जा चुका है। लापरवाही बरतने पर खाराकुआं थाना प्रभारी एमएल मीणा, एसआइ निरंजन शर्मा, कांस्टेबल शेख अनवर और नवाज शरीफ को निलंबित कर दिया गया है। इधर अवैध शराब के खिलाफ कार्रवाई के तहत अबतक 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

पूरा मामला उज्जैन के खारा कुआं थाने इलाके की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मामले का संज्ञान लेते हुए घटना की एसआईटी जांच के निर्देश दिए हैं। शिवराज सिंह ने कहा है कि यह न सिर्फ उज्जैन बल्कि पूरे प्रदेश में इस तरह के मामलों पर नजर रखी जाए। जहां कहीं भी ऐसे मिलावटी और जहरीले पदार्थों का विक्रय होने की आशंका हो, सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए।

Gyan Dairy

वहीं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने इस मामले में मौजूदा शिवराज सिंह की सरकार पर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने माफियाओं पर नकेल कसी गई थी, मगर वर्तमान सरकार इसमें नाकाम रही है। जहरीली शराब मामले में पुलिस ने 550 लीटर अवैध शराब जब्त की है। पुलिस को जांच में पता चला था कि मजदूरों ने सिकंदर, गब्बर और युनूस नामक व्यक्ति से जिंजर खरीदी थी।

Share