काशी में खुले देवालय, मंगला आरती के साथ बाबा विश्वनाथ का झांकी दर्शन शुरू

 

अनलॉक होते ही देश के सभी मंदिर खुल गये हैं, मंगलवार को काशी विश्वनाथ मंदिर भी खोल दिया गया। मंगलवार भोर में मंगला आरती के साथ बाबा विश्वनाथ का झांकी दर्शन शुरू हो गया। मंगलवार को एक बार फिर बाबा विश्वनाथ के दर्शन पाकर श्रद्धालु खुश नजर आए। इसके साथ ही छह अन्य मंदिरों, नदेसर मस्जिद व नीचीबाग स्थित गुरुद्वारा को भी खोल दिया गया है। इन धर्मस्थलों में जिला प्रशासन की गाइडलाइन के अनुसार श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया जाएगा। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदि के साथ ही आज से आम लोगों के लिए मां अन्नपूर्णा मंदिर, श्रीगुरु बृहस्पति मंदिर, दशाश्वमेध, तिलभांडेश्वर मंदिर ,रेवड़ी तालाब, बाबा कीनाराम मंदिर ,रवींद्र पुरी, गौरी केदारेश्वर मंदिर, केदार घाट, शूलटंकेश्वर महादेव मंदिर, शंकुल धारा, नदेसर मस्जिद कैंट भी खोल दिए गए।

विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक विशाल सिंह ने बताया कि मंदिर में श्रद्धालुओं को बिना मास्क के प्रवेश नहीं मिलेगा। श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश से थर्मल स्कैनिंग व पहले दो बार हाथों को सेनेटाइज करना आवश्यक होगा। शरीर का तापमान अधिक होने या सर्दी जुखाम की स्थिति में श्रद्धालु को मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा। एक बार में मंदिर परिसर में पांच श्रद्धालु ही उपस्थित होंगे। परिसर में किसी विग्रह या घंटी को छूना प्रतिबंधित रहेगा। श्रद्धालु गेट नंबर चार पांचों पंडवा से प्रवेश कर बद्रीनाथ प्रवेश द्वार से गर्भगृह के बाहर तक जाएंगे। वहां दर्शन करने के बाद हनुमान द्वार से नंदी हाल होते हुए वापस गेट नंबर चार से बाहर निकलेंगे। सभी श्रद्धालुओं को बाबा का झांकी दर्शन होगा।

मंदिर प्रशासन ने अलग-अलग मार्ग पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए पेंट से निर्धारित दूरी पर गोला भी बनवा दिया है। साथ ही प्रवेश द्वारों पर ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन लगाई गई है। सभी आरती से पूर्व मंदिर परिसर को पूरी तरह से सेनेटाइज किया जाएगा। श्रद्धालुओं को अपना जूता-चप्पल अपने वाहन या स्टैंड में रखना होगा।

Gyan Dairy

अन्नपूर्णा मंदिर व कीनाराम स्थली भी खुलेगी :शासन की गाइडलाइन पर खरे उतरे काशी के अन्य धर्मस्थल भी नौ जून से खोले जाएंगे। सोमवार को चेक लिस्ट के अनुसार व्यवस्थाएं पूर्ण मिलने पर जिला प्रशासन इन धर्मस्थलों को खोलने की अनुमति दे दी। इनमें अन्नपूर्णा मंदिर, बृहस्पति मंदिर दशाश्वमेध, तिलभांडेश्वर मंदिर रेवड़ी तालाब, बाबा कीनाराम स्थली क्रीं कुंड रवींद्रपुरी, गौरी केदारेश्वर मंदिर केदार घाट और शूलटंकेश्वर महादेव मंदिर शंकुलधारा शामिल हैं।

डॉ. संजय राय नोडल अधिकारी :सीएमओ डॉ. वीबी सिंह ने अनलॉक-1 के अन्तर्गत खुलने वाले धार्मिक स्थलों में निर्धारित मानकों का अनुपालन सुनिश्चित कराने के लिए एसीएमओ डॉ. संजय राय को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। डॉ. संजय राय कोरोना वायरस के संक्रमण एवं बचाव के लिए धार्मिक स्थलों पर की गयी कार्यवाहियों का निरीक्षण करेंगे और कमियां दूर करने के लिए दिशानिर्देश देंगे।

Share