‘बैंकिंग सखी’ की ट्रेनिंग शुरू, पास होने पर प्रतिमाह मिलेंगे 4000 रुपये, खास खबर

लखनऊ। यूपी में ग्रमीणों के लिए चलाई जा रही योजना के तहत ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के लिए चयनित बैकिंग करेस्पांडेट सखी का प्रशिक्षण का कार्यक्रम बुधवार से प्रदेश में शुरू किया गया है। ग्राम्य विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह के अनुसार, रूरल सेल्स इंप्लाइमेंट इंस्टीट्यूट द्वारा यह ट्रेनिंग दी जाने की घोषणा हुई है। छह दिन ट्रेनिंग के बाद प्रशिक्षण ले रही बैकिंग सखियों की परीक्षा शुरु होगी।

इस परीक्षा में जो महिलाएं पास होंगी उन्हें बैकिंग सखी के रूप में काम करने का मौका मिलेगा। फेल होने पर वरीयता सूची में दूसरे नंबर की महिला को ट्रेनिंग के लिए भेजने की व्यवस्था की गई है। सीएम योगी आदित्यनाथ की घोषणा के बाद ग्रामीण क्षेत्रों के लिए करीब 58 हजार बैकिंग सखी तैनात करने की प्रक्रिया चल रही है। इनकी तैनाती के बाद ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को गांव में ही बैकिंग की सुविधाएं मिलने लगेंगी। लेन.देन आसानी से कर सकेंगे।

Gyan Dairy

बैकिंग सखी को काम करने के लिए जरूरी उपकरण राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा दिया जाएगा। छह महीने तक हर महीने चार हजार रुपये मानदेय दिया जाएगा। सखियों को हार्डवेयर के लिए आसान किस्तों पर 75 हजार रुपये ऋण भी दिया जाएगा। इस योजना के तहत योगी सरकार ने ग्रमीणों को आत्मनिर्भर बनाने के उदेश्य से यह योजना शुरु की है।

Share