सोने चांदी की 10 लाख से ज्यादा की खरीद पर करनी होगी केवाईसी, केन्द्र सरकार के नए नियम

नई दिल्ली। सर्राफा बाजार में वित्त मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को कहा कि सोना और चांदी व कीमती रत्न एवं पत्थरों की नकद खरीद के लिए अपने ग्राहक को जानो ‘केवाईसी‘ संबंधी कोई नए नियम लागू नहीं किए गए हैं और केवल ऊंचे मूल्य वाली खरीद फरोख्त के मामले में ही पैन कार्ड आधार अथवा दूसरे दस्तावेजों की जरूरत होगी। शुक्रवार को वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग ने 28 दिसंबर 2020 को जारी अधिसूचना को साफ करते हुए विभाग ने कहा कि दो लाख रुपये से अधिक के आभूषण लेने पर सोना चांदी और कीमती धातुओं रत्न और आभूषण की नकद खरीद पर केवाईसी की आवश्यकता देश में पिछले कुछ सालों से जारी है।

यह अभी भी जारी है। मनी लाड्रिंग रोधी कानून 2002 के तहत 28 दिसंबर को जारी अधिसूचना में कहा गया है कि 10 लाख रुपये अथवा इससे अधिक का सोना चांदी आभूषण और कीमती धातुओं नकद सौदा करने पर अपने ग्राहक को जानो केवाईसी दस्तावेज भरने होंगे। यह वित्तीय कार्रवाई कार्यबल ‘एफएटीएफ‘ के तहत जरूरी है। यह कार्यबल वैश्विक स्तर पर बनाया गया है, जो मनी लांड्रिंग और आतंकवादियों को वित्तपोषण के खिलाफ काम करता है। भारत 2010 से ही एफएटीएफ का सदस्य है। इसके अनुसार, भारत में पहले से ही दो लाख रुपये से अधिक की नकद खरीद पर केवाईसी दस्तावेज को पहले ही अनिवार्य बनाया गया है। इसलिए अधिसूचना में इन खुलासे के लिए कोई नई श्रेणी नहीं बनाई गई है। हालांकि, यह एफएटीएफ के तहत एक आवश्यकता है।

Gyan Dairy

 

Share