मोदी के हनुमान ने बिगाड़ा JDU का खेल, पहुंचाया तीसरे पायदान पर

पटना: बिहार विधानसभा चुनावों में हालांकि अभी तक आये रूझानो में नितीश कुमार की पार्टी जेडीयू और बीजेपी गठबंधन की बहुमत सरकार बनती नजर आ रही है लेकिन 15 साल से सत्ता में बनी जेडीयू तीसरे पायदान पर पहुंचती नजर आ रही है. दरअसल एनडीए की सहयोगी लोजपा के प्रमुख चिराग पासवान का गठबंधन से अलग होकर नितीश कुमार खिलाफत करना कहीं न कहीं नितीश कुमार पर भारी पड़ गया. चिराग की रणनीति के आगे नीतीश कुमार और उनकी पार्टी बिहार में आरजेडी से भी पीछे हो गई है. कहा जा रहा है कि अगर चिराग पासवान ने नीतीश कुमार का इतना जोर-शोर से विरोध नहीं किया होता तो एक बार फिर मुख्यमंत्री बनने का नीतीश का सपना उनकी सहयोगी बीजेपी पर इसकदर निर्भर नहीं करता.बता दें चुनाव के दौरान ही चिराग ने अपने आपको मोदी का हनुमान बताया था.

बीजेपी को अभी राज्य में सबसे ज्यादा सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही हैं. वहीं, विपक्षी नेता तेजस्वी यादव रनर-अप बनते दिख रहे हैं. नीतीश कुमार की पार्टी तीसरे नंबर पर बनी हुई है, जो कि उसके पहले के प्रदर्शन के आगे कुछ नहीं है.

कहा जा रहा है कि अगर नीतीश कुमार की जेडीयू के हर उम्मीदवार को चिराग पासवान की लोकजनशक्ति पार्टी के उम्मीदवार का सामना नहीं करना पड़ता तो इन चुनावों में वो सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभर सकती थी. कभी नीतीश कुमार के करीबी रहे और पार्टी से निकाले जा चुके पवन वर्मा ने कहा कि ‘ऐसा लगता है कि बीजेपी नीतीश कुमार को अपना जूनियर पार्टनर बनाने में कामयाब हो गई है- जोकि चिराग पासवान के मूव के पीछे की मंशा थी.’

कई चुनावी विश्लेषकों और बीजेपी के आलोचकों का ऐसा मानना है कि बीजेपी ने अपने एक सहयोगी चिराग पासवान का इस्तेमाल दूसरे सहयोगी के वोटबैंक में सेंध लगाने में किया है. चिराग पासवान के वोटकटवा रोल से बीजेपी को पहली बार नीतीश के साथ रहे खट्टे-मीठे गठबंधन में अपनी भूमिका बदलने का मौका मिला है. पार्टी ने बहुत स्पष्ट तरीके से उस व्यक्ति की हैसियत कम कर दी है, जिसने कभी कहा था कि उसका नरेंद्र मोदी से कोई लेना-देना नहीं होगा, जो उस वक्त गुजरात के मुख्यमंत्री थे. नरेंद्र मोदी से मुलाकात न करने के बहाने कभी नीतीश कुमार ने पटना में एक डिनर पार्टी कैंसल कर दी थी. अब आज जब उनके पास फिर मुख्यमंत्री बनने का मौका है, तो वो बीजेपी की और पीएम मोदी की बार-बार अपील की वजह से है.

Gyan Dairy

यह सच है कि चिराग पासवान की ओर से यह वादे-इरादे दिखाए जाने के बावजूद कि वो नीतीश कुमार को चोट पहुंंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे और ऐसी स्थिति होगी कि वो बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाएंगे, पीएम मोदी सहित बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने भी बार-बार नीतीश को ही मुख्यमंत्री बनाए जाने की घोषणा की. नीतीश ने चिराग के हमलों को लेकर नाराजगी दिखाई थी, इसी के चलते वो पटना में हुई बीजेपी के साथ एक जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी काफी देरी से पहुंचे थे.

हालांकि, सार्वजनिक रूप से न तो पीएम ने, न किसी वरिष्ठ बीजेपी नेता ने चिराग पासवान के इस मिशन को लेकर कुछ नहीं कहा. ऐसे में इसे इस तरह लिया जा रहा था कि बीजेपी चिराग पासवान का गारंटर बनी हुई है.

Share