निकिता मर्डर केस: आरोपी तौसीफ ने पुलिस को बताई साल ‘2018’ की घटना, कहा- इसलिए मार डाला

नई दिल्ली। हरियाणा के वल्लभगढ़ में बीकॉम थर्ड ईयर की छात्रा निकिता की हत्या मामले में मुख्य आरोपी तौसिफ (तौसीफ) और उसके दोस्त रेहान को गिरफ्तार कर लिया गया है। निकिता के हत्यारोपी तौसीफ ने पुलिस की पूछताछ में अपना जुर्म कुबूल कर लिया है और उसने बताया है कि आखिर इस दर्दनाक वारदात को अंजाम क्यों दिया। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो आरोपी तौसिफ निकिता से शादी करना चाहता था, मगर उसकी शादी कहीं और हो रही थी, जिस वजह से उसने उसकी दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी।

सूत्रों का दावा है कि हत्या के पीछे साल 2018 की एक घटना है। पुलिस पूछताछ में हत्यारोपी तौसिफ ने कथिततौर पर अपना जुर्म कुबूल किया है। उसने बताया कि ‘मैंने उसे मारा क्योंकि वह किसी और से शादी करने जा रही थी। पूछताछ में उसने दावा किया कि निकिता के परिवार की ओर से साल 2018 में दर्ज केस की वजह से उसका करियर तबाह हो गया। उसने कहा कि मैंने मेडिकल की पढ़ाई नहीं की, क्योंकि मुझे गिरफ्तार कर लिया गया था। इसलिए मैंने बदला लिया।’

उसने 25 अक्टूबर की रात को निकिता के साथ बातचीत करने की बात भी कबूल की है। हरियाणा पुलिस की अब तक की जांच में मिले कॉल डिटेल्स से यह बता चला है कि निकिता और तौसिफ के बीच हत्या वाले दिन से एक दिन पहले तक बातचीत हुई है। तौसिफ उसकी मर्जी के खिलाफ उसे घर से भागने और उसके साथ शादी करने का दबाव बना रहा था। बताया जा रहा है कि आरोपी और पीड़िता ने 12वीं तक साथ में पढ़ाई की है। निकिता ने जिस प्राइवेट स्कूल में पांचवीं से लेकर 12वीं तक की पढ़ाई की, उसी स्कूल में आरोपी तौसिफ भी पढ़ता था। वह, यहां हॉस्टल में रहता था। इसी दौरान वह निकिता से एकतरफा प्यार करने लगा। वह निकिता का प्यार पाने के लिए उसे बार-बार परेशान भी किया करता था।

तौसीफ पर आरोप है कि उसने 2018 में निकिता का अपहरण कर लिया था। उसके खिलाफ बल्लभगढ़ थाने में मामला भी दर्ज किया गया था। इस समय निकिता नाबालिग थी। तौसिफ और उसके परिवार वालों ने माफी मांग ली, जिसके बाद निकिता के पिता ने मुकदमा वापस ले लिया। हालांकि, तौसीफ का एकतरफा प्यार खत्म नहीं हुआ।

Gyan Dairy

21 वर्षीय तौसिफ फिजियो थेरेपिस्ट का कोर्स कर रहा है। निकिता की हत्या में उसके दोस्त रेहान ने भी मदद की है। तौसिफ एक राजनीतिक रसूखदार परिवार से संबंध रखता है। उसके दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं, जबकि चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं। इसके अलावा अन्य रिश्तेदार आफताब अहमद वर्तमान में कांग्रेस के नूंह (मेवात) से विधायक हैं।

यह थी घटना
सोमवार को फरीदाबाद में मिल्क प्लांट रोड पर अग्रवाल कॉलेज से परीक्षा देकर घर लौट रही निकिता तोमर की उसने गोली मारकर हत्या कर दी। इसमें उसके दोस्त ने भी उसकी मदद की। लहूलुहान हालत में निकिता को को पास के निजी अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक वह दुनिया छोड़ चुकी थी। डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हालांकि कथित तौर पर हत्या के बाग तौशीफ मौके से फरार होने में सफल रहा, लेकिन सीसीटीवी ने उसकी हर हरकतों को कैद कर लिया। पुलिस के हाथ लगे सीसीटीवी फुटेज से पहले तो दोनों आरोपियों की पहचान हुई। बाद में उन्हें धर दबोचा गया।

Share