पीएम मोदी और मुख्यमंत्रियों का दूसरे चरण में होगा वैक्सीनेशन,जानें पूरी डिटेल

नई दिल्ली। देश में हो रहे कोरोना वैक्सीनेशन के तहत टीकाकरण के दुसरे चरण में पीएम नरेंद्र मोदी टीका लगवाएंगे। कोरोना टीकाकरण का दूसरा चरण इसी साल मार्च या अप्रैल में शुरू हो सकता है। सरकार के दो शीर्ष अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी है। इसके पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंट लाइन वर्कर्स को टीका लगाया जा रहा है। पीएम कार्यालय के अधिकारियों के अनुसार, पहला चरण खत्म होने के बाद अपनी बारी आने पर पीएम मोदी टीका लेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में कहा था कि राजनेताओं को क्रम नहीं तोड़ना चाहिए और टीका तब ही लगवाना चाहिए जब उनकी बारी आएगी। 11 जनवरी को पीएम मोदी ने कोरोनो के पहले चरण को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी।

पहले चरण के अंदर भारत में 3 करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंट लाइन वर्कर्स को टीका देने का लक्ष्य रखा गया है। वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में उन 27 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा जिनकी उम्र 50 साल से ऊपर है या फिर जिन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की वजह से कोरोना का ज्यादा खतरा है। पीएमओ के अधिकारी ने बताया कि 70 वर्षीय मोदी भी इसी चरण में टीका लगवा सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि पीएम मोदी की बारी मार्च या अप्रैल महीने में आ सकती है। भारत में फिलहाल सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की बनाई ऑक्सफोर्ड एस्ट्रेजेनेका की कोविशील्ड वैक्सीन और भारत बायोटेक की बनाई कोवैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है।विपक्षी पार्टियां केंद्र के मंत्रियों के पहले चरण में टीका न लगवाने को लेकर सवाल खड़े कर रही थी।

Gyan Dairy

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने टीकाकरण अभियान शुरू होने पर यह बयान दिया था कि अगर कोरोना की वैक्सीन इतनी ही सुरक्षित है तो केंद्र के मंत्री इसे क्यों नहीं लगवा रहे। भारत में कुल 7 लाख 86 हजार 842 स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का टीका दिया जा चुका है। इनमें से 1 लाख 12 हजार 7 लाभार्थियों को बुधवार शाम 6 बजे तक वैक्सीन दी गई थी। भारत में 16 जनवरी से शुरू कोरोना टीकाकरण के बाद अब तक 600 लोगों को बीमार होने की जानकारी मिली है, जो कि दुनिया के बाकी देशों की तुलना में सबसे कम है। इनमें से 82 लोग बुधवार को बीमार हुए। अभी तक 6 राज्यों में कोरोना टीकाकरण के बाद दिखे लक्षणों की वजह से 10 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिनमें से 7 को छुट्टी भी दे दी गई है।

Share