गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर बोले राष्ट्रपति, कहा-हमारी सेना दुश्मनों को जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार

नई दिल्ली। 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश को संबोधित किया। इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किसानों से लेकर जवानों तक की तारीफ की। उन्होंने कहा कि कठिन परिस्थितियों में भी देश ये लोग देश की सेवा कर रहे हैं। नए कृषि कानूनों के विरोध के बीच राष्ट्रपति ने इन्हें किसानों के हित में बताया और कहा कि शुरुआत में इसको लेकर कुछ आशंकाएं हो सकती हैं, लेकिन किसानों के हित के लिए सरकार पूरी तरह समर्पित है।

राष्‍ट्र के नाम संबोधन में राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि विपरीत प्राकृतिक परिस्थितियों, अनेक चुनौतियों और कोविड की आपदा के बावजूद हमारे किसान भाई-बहनों ने कृषि उत्पादन में कोई कमी नहीं आने दी। यह कृतज्ञ देश हमारे अन्नदाता किसानों के कल्याण के लिए पूर्णतया प्रतिबद्ध है।

सियाचिन व गलवान घाटी में, माइनस 50 से 60 डिग्री तापमान में, सब कुछ जमा देने वाली सर्दी से लेकर, जैसलमर में, 50 डिग्री सेन्टीग्रेड से ऊपर के तापमान में, झुलसा देने वाली गर्मी में – धरती, आकाश और विशाल तटीय क्षेत्रों में – हमारे सेनानी भारत की सुरक्षा का दायित्व हर पल निभाते हैं। हमारे सैनिकों की बहादुरी, देशप्रेम और बलिदान पर हम सभी देशवासियों को गर्व है।

वैज्ञानिकों ने पूरी मानवता के कल्याण हेतु नया इतिहास रचा
अन्तरिक्ष से लेकर खेत-खलिहानों तक, शिक्षण संस्थानों से लेकर अस्पतालों तक, वैज्ञानिक समुदाय ने हमारे जीवन और कामकाज को बेहतर बनाया है। दिन-रात परिश्रम करते हुए कोरोना-वायरस को डी-कोड करके तथा बहुत कम समय में ही वैक्सीन को विकसित करके, हमारे वैज्ञानिकों ने पूरी मानवता के कल्याण हेतु एक नया इतिहास रचा है।

Gyan Dairy

 

 

Share