मणिकर्णिका के ट्वीट से शिवसेना की बोलती बंद, समर्थकों ने शुरू किया उद्धव सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

मुंबई। कल मुंबई में कंगना रनौत के दफ्तर पर शिवसेना ने बदले की भावना से बुलडोजर चलवा दिया जिसके बाद से कंगना और महाराष्ट्र सरकार के बीच विवाद गहरा होता जा रहा है। मुंबई म्युनिसिपल कार्पोरेशन (BMC) ने कंगना रनौत के ऑफिस में जो तोड़फोड़ की है, उससे वह काफी नाराज हैं। कंगना की बहन रंगोली ने गुरुवार को ऑफिस जाकर वहां का जायजा लिया। बताया जा रहा है उन्होंने ऑफिस की कुछ तस्वीरें लीं और वीडियोज भी बनाए हैं। इसी बीच कंगना ने फिर से उद्धव सरकार के खिलाफ ट्वीट किया है। मुंबई के विक्रोली थाने में कंगना के ख‍िलाफ एक एफआईआर भी दर्ज हो गई है।

इसी बीच कंगना रनौत के खिलाफ विक्रोली थाने में FIR दर्ज करवा दी गई है। आरोप है कि कंगना ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था। शिकायत में कंगना के ट्वीट्स भी अटैच किए गए हैं। शिकायत में कंगना के वीडियो का जिक्र है।

वहीं हिंमांचल के मुख्‍यमंत्री जयराम ठाकुर के ट्वीट के बाद गुरुवार को हिमाचल प्रदेश के मंडी में कंगना रनौत के समर्थन में बड़ी संख्‍या में लोग सड़कों पर उतर हुए। वहां ‘महाराष्‍ट्र सरकार शर्म करो, शर्म करो’ लगाए गए। इसके साथ ही ‘बीएमसी हाय हाय’ के भी नारे लगे। समर्थकों ने कंगना का सपोर्ट करते हुए नारे लगाए- कंगना तुम संघर्ष करो हम तुम्‍हारे साथ हैं। इस दौरान लोगों ने हाथों में तख्‍त‍ियां भी ली हुई थीं।

Gyan Dairy

कंगना ने ताबड़तोड़ ट्वीट कर शिवसेना को बताया गुंडा
कंगना ने ट्वीट किए हैं, मैं इस बात को विशेष रूप से स्पष्ट करना चाहती हूं की महाराष्ट्र के लोग सरकार द्वारा की गयी गुंडागर्दी की निंदा करते हैं, मेरे मराठी शुभचिंतकों के बहुत फ़ोन आ रहे हैं, दुनिया या हिमाचल में लोगों के दिल में जो दुख हुआ है वो यह कतई ना सोचों की मुझे यहाँ प्रेम और सम्मान नहीं मिलता।

मेरे कई मराठी दोस्त कल फ़ोन पे रोए,कितनों ने मुझे सहायता हेतु कई सम्पर्क दिए, कुछ घर पे खाना भेज रहे थे जो मैं सिक्यरिटी प्रोटोकॉल्ज़ के चलते स्वीकार नहीं कर पायी,महाराष्ट्र सरकार की इस काली करतूत से दुनिया में मराठी संस्कृति और गौरव को ठेस नहीं पहुँचानी चाहिए. जय महाराष्ट्रा।

तुम्हारे पिताजी के अच्छे कर्म तुम्हें दौलत तो दे सकते हैं मगर सम्मान तुम्हें खुद कमाना पड़ता है, मेरा मुँह बंद करोगे मगर मेरी आवाज़ मेरे बाद सौ फिर लाखों में गूंजेगी, कितने मुँह बंद करोगे? कितनी आवाज़ें दबाओगे? कब तक सच्चाई से भागोगे तुम कुछ नहीं हों सिर्फ़ वंशवाद का एक नमूना हो।

Share