बंगाल में बवाल, ममता से बगावत कर बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी की टीएमसी समर्थकों से खूनी झड़प

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में जल्द ही विधानसभा के चुनाव होने हैं लेकिन जिस तरह से चुनाव के पहले हमले और मारपीट हो रही है उसे देखकर तो यही लगता है कि चुनाव के दौरान स्थिति और भयानक हो सकती है। पूर्व मेदनीपुर के रामनगर में टीएमसी से हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच खूनी झड़प शुरू हो गई है। आज रामनगर में दो गुटों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई। इस हिंसक झड़प में कई लोग जख्मी हो गए। पूरे इलाके में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है, जिसको देखते हुए मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

तमाल साहा ने बताया कि अधिकारी समर्थक और भाजपा कार्यकर्ता पूर्वी मेदिनीपुर के रामनगर में एक रैली निकाल रहे थे। बीजेपी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सत्तारूढ़ पार्टी समर्थकों की तरफ कुछ इशारे किए, जो पार्टी कार्यालय के पास इकट्ठे हुए थे। जिसके बाद घटना पूरी तरह से हिंसा में बदल गई। पुलिस ने हस्तक्षेप किया है, लेकिन दोनों पक्षों के पथराव में कई लोगों के घायल होने की खबर है।

रामनगर को टीएमसी गढ़ के रूप में जाना जाता है।

19 दिसंबर को पूर्व टीएमसी नेता शुवेंदु अधिकारी मेदिनीपुर में एक विशाल रैली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गए। पूर्व नंदीग्राम विधायक को रैली के दौरान शाह के साथ बैठा देखा गया था।

इसके अलावा मेदिनीपुर रैली में 11 विधायक, एक सांसद और एक पूर्व सांसद बीजेपी में शामिल हुए। शुवेंदु अधकारी, तापसी मोंडल, अशोक डिंडा, सुदीप मुखर्जी, सैकत पांजा, शीलभद्र दत्ता, दीपाली बिस्वास, सुकरा मुंडा, श्यामापुरी मुखर्जी, बिस्वजीत कुंडू, और बाणासरी मैती पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो गए।

Gyan Dairy

रैली को संबोधित करते हुए, शाह ने ममता बनर्जी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जब तक चुनाव आएगा, श्दीदीश् अपनी पार्टी में अकेली रह जाएंगी। इतने लोग तृणमूल कांग्रेस छोड़कर क्यों जा रहे हैं? ममता बनर्जी के कुशासन, भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद के कारण।

इसी रैली को संबोधित करते हुए शुवेंदु अधिकारी ने बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी को श्जबरन वसूलीश् का आरोप लगाया। अधिकारी के पार्टी छोड़ने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए तृणमूल कांग्रेस के लोकसभा सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि उनके पूर्व सहयोगी सबसे बड़ी जबरन वसूली पार्टी में शामिल हो गए हैं।

बंगाल की राजनीति में राजनीतिक हिंसा कोई नई बात नहीं है और विधानसभा चुनावों के साथ ही राज्य में टीएमसी और भाजपा के बीच भयंकर झड़प होने की संभावना है।

Share