अजीत सिंह हत्याकांड: मुख्य आरोपी गिरधारी मुठभेड़ में ढेर, पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने की कर रहा था कोशिश

लखनऊ। लखनऊ पुलिस ने पूर्व ब्लॉक प्रमुख और हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह हत्याकांड के मुख्य आरोपी गिरधारी को मुठभेड़ में ढेर कर दिया है। कस्टडी रिमांड पर मिलने के बाद पुलिस आरोपी को लेकर वारदात में इस्तेमाल की गयी पिस्टल बरामदगी के लिए सहारा अस्पताल के पीछे खरगापुर के पास आई थी। इस दौरान आरोपी ने दारोगा की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की। पुलिस ने सरेंडर करने के लिए कहा तो वह फायरिंग करने लगा।

इस दौरान मुठभेड़ में पुलिस ने उसे ढेर कर दिया। बता दें कि, पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्याकांड का गिरधारी मुख्य आरेापी था। सोमवार तड़के गिरधारी उर्फ डॉक्टर को लेकर अजीत सिंह हत्या में प्रयुक्त असलहा बरामदगी के लिए सहारा हॉस्पिटल के पीछे खरगापुर क्रॉसिंग के पास लेकर पहुंची।

जैसे ही गाड़ी रुकी और लोग सीट से उतरे कि उप निरीक्षक अख्तर उस्मानी अपने साइड से अभियुक्त को उतार रहे थे, तभी आरोपी गिरधारी ने इंस्पेक्टर उस्मानी की नाक पर अपने सिर से हमला कर दिया और पिस्टल छीनकर भागते हुए झाड़ियों में छिप गया। इसकी सूचना ब्रैवो कंट्रोल रूम व 112 पर दी गई, जिसके बाद पुलिस उपायुक्त पूर्वी वहां आ पहुंचे।

Gyan Dairy

इसके बाद पुलिस वालों ने झाड़ियों को चारों तरफ से घेर लिया और गिरधारी को आत्मसमर्पण की चेतावनी देने लगे। हालांकि उसने एक बात न सुनी और छीनी हुई पिस्टल से बार-बार फायर करता रहा। जवाबी कार्रवाई में उसे पुलिस की एक गोली लग गई और वह चिल्लाता हुआ गिर गया। पास जाकर देखा गया तो उसकी सांसे चल रही थीं, तत्काल सरकारी गाड़ी द्वारा राम मनोहर लोहिया इमरजेंसी में भेजा गया लेकिन वहां इलाज के दौरान गिरधारी की मृत्यु हो गई।

 

Share