आज है शनि प्रदोष व्रत, पंचांग के साथ साथ जाने राहुकाल का समय

सावन मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत है। इस बार यह शुभ तिथि 18 जुलाई दिन शनिवार को है। शास्त्रों में बताया गया है कि जब शनिवार को प्रदोष व्रत पड़ता है तब इस शनि प्रदोष व्रत कहते हैं। … इस दिन भगवान शिव के साथ शनिदेव की पूजा करने से कई समस्याओं से मुक्ति मिल सकती है।

शनि प्रदोष व्रत। सूर्य दक्षिणायण। सूर्य उत्तर गोल। वर्षा ऋतु। प्रात: 9 बजे से 10 बजकर 30 मिनट तक राहुकालम्।

18 जुलाई, शनिवार,

Gyan Dairy

27 आषाढ़ (सौर) शक 1942, 3 श्रावण मास प्रविष्टे 2077, 26 जिल्काद सन् हिजरी 1441, श्रावण कृष्ण त्रयोदशी रात्रि 12 बजकर 42 मिनट तक उपरांत चतुर्दशी, मृगशीर्ष नक्षत्र रात्रि 9 बजकर 23 मिनट तक तदनंतर आद्रा नक्षत्र, ध्रुव योग रात्रि 11 बजकर 7 मिनट तक पश्चात व्याघात योग, गर करण, चद्रंमा प्रात: बजकर 1 मिनट तक वृष राशि में उपरांत मिथुन राशि में।

पं. आचार्य प्रदीप द्विवेदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share