UA-128663252-1

विकास दुबे केस : शशिकांत की पत्नी मनु पांडेय के घर से पुलिस का पहरा हटा, जारी रहेगी निगरानी

कानपुर। कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड के अगले दिन यानी 3 जुलाई को पुलिस एनकाउंटर में मारे गए प्रेम प्रकाश पाण्डेय के शशिकांत पाण्डेय को जेल भेजा जा चुका है। हालांकि शशिकांत पाण्डेय की पत्नी मनु पाण्डेय अब तक पुलिस की निगरानी में थी। उसके घर के बाहर पुलिस का कड़ा पहरा था पर अब वह पुलिस पहरे से आजाद हो चुकी है।

बता दें कि 2 जुलाई की देर रात आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद 3 जुलाई की सुबह पुलिस ने मनु के ससुर प्रेम प्रकाश पाण्डेय को एनकाउंटर में मार गिराया था। 14 जुलाई को पुलिस ने इस मामले में मनु पाण्डेय के पति शशिकांत को गिरफ्तार कर जेल भेजा था और 15 जुलाई को मनु के घर पर पुलिस फोर्स को बैठाकर निगरानी शुरू कर दी गई थी।

मनु पाण्डेय, उसकी सास सुषमा और दोनों बच्चे घर में ही कैद थे। उन्हें कहीं आने-जाने की अनुमति नहीं थी। इस दौरान एसआईटी और न्यायिक जांच आयोग के सामने मनु पाण्डेय ने पूरी घटना को विस्तार से बताया। बीच में पुलिस अधिकारियों द्वारा यह तय किया गया कि उसे बिकरू कांड में सरकारी गवाह बनाया जाएगा पर बाद में मामला ठंडे बस्ते में चला गया

Gyan Dairy

अब मनु के यहां से फोर्स पूरी तरह से हटा ली गई। उसके आने जाने पर पाबंदी खत्म कर दी गई है। अब स्थिति ऐसी है कि मनु गांव में लोगों के यहां आ जा सकती है। वह घर का थोड़ा बहुत सामान लेने के लिए भी निकलती है मगर दूसरों से कांड को लेकर बात करने में अब वह कतराने लगी है।

चौबेपुर थाने में तैनात एसआई देवेन्द्र सिंह बुधवार को मनु पाण्डेय के यहां गए थे। उससे लगभग आधा घंटे तक पूछताछ करके वापस चले गए। मनु ने दोनों के बीच क्या बात हुई यह बताने से इंकार कर दिया। उसका कहना था जो भी पुलिस-प्रशासन ने उसके लिए तय किया होगा। वह उसी के अनुसार कार्य करेगी।

Share