सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दाम में की बढ़ोतरी

पेट्रोल के मूल्य में 1.34 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। वहीं डीजल की कीमतें 2.37 पैसे प्रति लीटर बढ़ाई गई हैं। तीनों सरकारी कंपनियां- इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिदुस्तान पेट्रोलियम कच्चे तेल के अंतरराष्ट्रीय मूल्यों के आधार पर ईंधन कीमतों की हर पखवाड़े समीक्षा करती हैं। कंपनियां इस समीक्षा के दौरान डॉलर और रुपए की विनिमय दर को भी ध्यान में रखती हैं।

petrol-diesel-price-cut

बढ़ी हुई कीमते आज राज से लागू कर दी जाएगी। दिल्ली में शनिवार मध्यरात्रि से पेट्रोल 66.06 रुपए प्रति लीटर मिलेगा। अभी तक यह 64.58 रुपए प्रति लीटर था। डीजल का दाम भी 54.98 रुपए से बढ़कर 52.61 रुपए प्रति लीटर हो गया। बता दें कि पिछले दिनों कच्चे तेल में आए उछाल के कारण ही पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाए गए है। गौरतलब है कि देश में तेल कंपनियां हर 15 दिन में पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों की समीक्षा करती हैं। इसके बाद अंतरराष्ट्रीय क्रूड के दामों के आधार पर घरेलू तेल कीमतों में बदलाव करती हैं। जिसके बाद लगातार कटौती के बाद दामों में इजाफा किया गया है।

Gyan Dairy

A man refuels a vehicle at a Bharat Petroleum Corp. gas station in New Delhi, India, on Sunday, May 20, 2012. Bharat Petroleum Corp. is the best-performing energy stock on the MSCI AC Asia Pacific Index this year and analysts say its foray into exploration in Africa to counter refining losses may mean there's more growth to come. Photographer: Prashanth Vishwanathan/Bloomberg via Getty Images

इस महीने की शुरूआत में ही यातायात उपभोक्ताओं की जेब ढीली हुई थी जब डीलर कमीशन बढ़ने से पेट्रोल और डीजल के दाम क्रमश: 14 पैसे प्रति लीटर और 10 पैसे लीटर बढ़ाए गए थे। इससे पहले एक अक्तूबर को पेट्रोल कीमतों में 37 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई थी। उस दिन डीजल के दाम आठ पैसे लीटर कम किये गये थे। इंडियन आॅयल कारपोरेशन ने कीमत वृद्धि की घोषणा करते हुए कहा था कि अन्य राज्यों में भी डीजल कमीशन में बदलाव की वजह से पेट्रोल, डीजल कीमतों में संशोधन होगा। गौरतलब है कि इससे पहले पिछले माह ही पेट्रोल की कीमतों में (15 सितंबर) को प्रति लीटर 58 पैसे की बढ़ोत्तरी जबकि डीजल की कीमतों में प्रति लीटर 31 पैसे की कमी की गई ।  सितंबर माह में पेट्रोल की कीमतों में हुई दो बार बढ़ोत्तरी की गई थी। लिहाजा अब फिर से लोगों की जेब पर असर पड़ेगा।

Share