प्रवासी मजदूरों के बाद अब विदेश में फंसे छात्रों को वापस लाएंगे सोनू सूद, कल से शुरू होगा अभियान

मुंबई। कोरोना संकट में फिल्म अभिनेता सोनू सूद जरूरतमंद लोगों के लिए एक मसीहा बनकर आये हैं, इस दौरान वो खुले दिल से लोगों की मदद कर रहे हैं. जहां पहले उन्होने देश के कोने कोने में फंसे प्रवासी मजदूरों को बस व ट्रेन बुक करके उनके घरों तक पहुंचाया वहीं अब सोनू सूद विदेश में फंसे भारतीय छात्रों को वतन वापस लाने जा रहे हैं. उन्होंने इसका ऐलान खुद किया है. इसके लिए पहली फ्लाइट 22 जुलाई को भेजने की तैयारी है. बता दें कि लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद उस वक्त चर्चा में आए जब उन्होंने मुंबई से देश के कई हिस्सों में प्रवासी श्रमिकों को बसों के जरिए घर भेजा.

किर्गिस्तान से स्टूडेंट्स को घर लाने की तैयारी

सोनू सूद ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘किर्गिस्तान में फंसे स्टूडेंट्स को घर लाने का वक्त आ गया है. Bishkek -Varanasi पहली चार्टर फ्लाइट 22 जुलाई को चलेगी. इसकी डिटेल मेल आईडी ओर मोबाइल पर भेज दी जाएगी. इसी हफ्ते कुछ और देशों से भी चार्टर फ्लाइट का संचालन किया जाएगा.

पहले भी फ्लाइट से फंसे लोगों को घर ला चुके हैं सोनू सूद

Gyan Dairy

सोनू सूद इससे पहले भी फ्लाइट के जरिए लोगों को उनके शहर-घर भिजवा चुके हैं. लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में केरल में ओडिशा की कई नर्सें फंस गई थीं. जब उन्होंने सोनू सूद से मदद मांगी तो उन्होंने रहकर उनकी मदद की. कई नर्सों को उन्होंने फ्लाइट के द्वारा केरल से ओडिशा घर भेजा. इस पर ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने उनकी जमकर तारीफ की थी. हालांकि, ऐसा पहली बार होगा जब विदेश से सोनू सूद किसी भारतीय को उसके घर ला रहे हैं.

अभी भी कर रहे हैं प्रवासी मजदूरों की मदद

मुंबई से प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के बाद भी सोनू सूद लगातार उनकी मदद कर रहे हैं. दो दिन पहले जब ट्विटर पर एक फोटो वायरल हुई थी जहां एक परिवार को फुटपाथ पर सोना पड़ा था तो सोनू सूद ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया था. उन्होंने कहा था कि इस परिवार के सिर पर कल छत होगी.

Share