क्रिकेटर मनोज तिवारी के बाद अभिनेत्री सयांतिका बैनर्जी भी टीएमसी में हुईं शामिल

कोलकाता: जहां एक तरफ बंगाल में चुनाव से पहले कई बड़े नेताओं ने सत्ताधारी टीएमसी पार्टी को अलविदा कहा वहीं अब फिल्म अभिनेता और क्रिकेटर लगातार टीएमसी में शामिल हो रहे हैं। क्रिकेटर मनोज तिवारी के तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के कुछ दिनों बाद बंगाली अभिनेत्री सयांतिका बैनर्जी ने बुधवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 से पहले ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी टीएमसी में शामिल हो गईं।

पश्चिम बंगाल के चुनाव 27 मार्च से शुरू होने वाले आठ चरणों में होंगे और दो मई को चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे।

चुनाव आयोग ने घोषणा की है कि पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनावों का पहला चरण 27 मार्च को निर्धारित किया गया है और इसमें 30 सीटों को शामिल किया जाएगा, जबकि दूसरे चरण में 1 अप्रैल को 30 सीटों को कवर किया जाएगा, इसके बाद तीसरे चरण में 6 अप्रैल को 31 विधानसभा क्षेत्र, 44 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए 10 अप्रैल को चौथा, 45 विधानसभा सीटों के लिए 17 अप्रैल को पांचवा, 22 अप्रैल को 43 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए छठा, 26 अप्रैल को 36 सीटों में के लिए सातवें और आठवें चरण का आयोजन 29 अप्रैल को 35 सीटों के लिए किया जाएगा।

पिछले कुछ महीनों में कई राजनीतिक नेताओं ने पाला बदल लिया है और कुछ फिल्मी हस्तियां टीएमसी और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गई हैं, जो आगामी बंगाल चुनावों में आमने-सामने हैं।

Gyan Dairy

क्रिकेटर तिवारी 24 फरवरी को बनर्जी के संगठन में शामिल हुए थे। यश दासगुप्ता, राज मुखर्जी, अशोक भद्र, मीनाक्षी घोष, मल्लिका बनर्जी, पापिया आदिवासी, सौमिली घोष विश्वास और एमिला भट्टाचार्जी सहित कई बंगाली कलाकार फरवरी में बीजेपी में शामिल हुए थे।

बनर्जी को सबसे बड़ा झटका दिसंबर 2020 में लगा, जब नंदीग्राम के मजबूत नेता सुवेंदु अधिकारी ने तृणमूल को छोड़ी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गए।

सत्तारूढ़ टीएमसी की ओर से जारी पलायन के बीच पासीम बर्धमान जिले के पांडेबेश्वर से पार्टी के विधायक जितेंद्र तिवारी 2 मार्च को भाजपा में शामिल हो गए। बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष की मौजूदगी में भगवा पार्टी में शामिल होने के बाद तिवारी ने कहा, “मैं भाजपा में शामिल हुआ हूं, क्योंकि मैं राज्य के विकास के लिए काम करना चाहता हूं। टीएमसी में रहते हुए के लिए काम करना संभव नहीं था।”

Share