सुशांत सिंह राजपूत सुसाईड मामले में CBI ने दर्ज किया केस, रिया और उसके भाई को बनाया गया आरोपी

मुंबई। बिहार सरकार की अपील पर केन्द्र ने कल एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई (CBI) जांच का आदेश दे दिया ​था जिसके बाद आज सीबीआई ने एक्शन लेते हुए 6 आरोपियों समेत अन्य के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। केन्द्र की तरफ से बुधवार को नोटिफिकेशन मिलने के एक दिन बाद सीबीआई ने जिन लोगों को नाम एफआईआर में शामिल किया है, उनमें- रिया चक्रवर्ती, इन्द्रजीत चक्रवर्ती, संध्या चक्रवर्ती, शौविक चक्रवर्ती, सैम्युअल मिरांडा, श्रुति मोदी और अन्य हैं।

CBI

इससे पहले सीबीआई ने कहा था, “भारत सरकार की तरफ से नोटिफिकेशन पाने के बाद सुशांत सिंह मौत के मामले में सीबीआई केस दर्ज करने की प्रक्रिया में है। हम इसको लेकर बिहार पुलिस के संपर्क में भी हैं।” सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि जल्द ही एफआईआर को एजेंसी की वेबसाइट पर अपलोड कर दी जाएगी। सीबीआई के अधिकारियों ने आगे बताया कि जो एसआईटी (विशेष जांच दल) वर्तमान में अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले और विजय माल्या बैंक फर्जीवाड़ा केस की जांच कर रही है, वह एक्टर सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच करेगी।

यह सबकुछ ऐसे वक्त पर हो रहा है जब महाराष्ट्र सरकार ने केस को सीबीआई को दिए जाने का विरोध करते हुए दावा किया कि ऐसा बिहार में होने जा रहे विधानसभा चुनाव समेत अन्य राजनीतिक कारणों के चलते किया जा रहा है।

Gyan Dairy

बिहार सरकार की तरफ से सीबीआई जांच की मांग के एक दिन बाद केन्द्र सरकार ने बुधवार की शाम को एक नोटिफिकेशन जारी करते हुए केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई से कहा कि वह बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच करे। इससे पहले, सोमवार को बिहार विधानसभा में सभी दलों के नेताओं ने इस केस की सीबाआई जांच की मांग की थी। हालांकि, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और वहां के गृह मंत्री अनिल देशमुख दोनों ने सीबीआई जांच से इनकार किया था।

बता दें कि मुंबई के उप-नगर बांद्रा के अपने अपार्टमेंट में राजपूत 14 जून को छत से फांसी से लटकते पाए गए थे और तब से मुंबई पुलिस विभिन्न बिंदुओं पर मामले की जांच कर रही है। पटना निवासी राजपूत के 77 वर्षीय पिता कृष्ण किशोर सिंह की शिकायत पर बिहार पुलिस ने भी कार्रवाई शुरू कर दी थी। पटना पुलिस ने आईपीसी की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी, जो कथित आपराधिक षड्यंत्र, ठगी और आत्महत्या के लिए उकसाने से जुड़ी हुई थी।

Share