पत्नी सुतापा के लिए जीना चाहते थे इरफान, बेटों को हमेशा दिया भरपूर समय, जानें परिवार के बारे में

नई दिल्ली। बालीवुड के दिग्गज अभिनेता इरफान खान अब हमारे बीच नहीं रहे। काफी समय से इरफान की तबीयत खराब थी। हालत बिगड़ने पर मंगलवार को इरफान को कोकिला बेन अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था। बुधवार को उन्होंने अस्पताल में अंतिम सांस ली। दरअसल,साल 2018 में इरफान खान को पता चला कि वह न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित हैं। पिछले दो साल से वो इस बीमारी का इलाज करा रहे थे। इरफान अपने पीछे पत्नी और दो बेटों को छोड़ गए हैं।

इरफान खान का पूरा नाम साहबजादे इरफान अली खान है। उनका जन्म राजस्थान के टोंक जिले में हुआ था। अभी चार दिन पहले ही इरफान की 95 वर्षीय मां का भी निधन हुआ। देशव्यापी लॉकडाउन के चलते इरफान अपनी मां की अंतिम यात्रा में शरीक नहीं हो पाए थे। इरफान के पिता यासीन खान का काफी पहले ही निधन हो चुका है।

इरफान के परिवार में उनकी पत्नी सुतापा सिकंदर और दो बेटे हैं। इरफान और सुतापा की शादी 1995 में हुई थी। इरफान तब सिनेमा में अपने पैर जमा रहे थे। इरफान की पत्नी सुतापा सिकंदर भी स्क्रीन प्ले राइटर हैं। एक इंटरव्यू में इरफान ने अपनी पत्नी के बारे में बताया था सुतापा मेरे लिए हमेशा 24 घंटे खड़ी रही। उसी इंटरव्यू में इरफान ने कहा था कि मैं अभी तक हूं, इसकी वो एक बड़ी वजह है और अगर मुझे जीने का मौका मिलेगा, मैं उसके लिए जीना चाहूंगा।

Gyan Dairy

इरफान के बड़े बेटे का नाम बाबिल खान और छोटे बेटे का नाम अयान खान है। इरफान ने अपने बच्चों के साथ खूब वक्त बिताया है। इरफान ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनकी मां उन्हें लेक्चरर बनाना चाहती थीं, लेकिन इरफान ने एक्टर बनकर नाम रोशन किया। इरफान खान के निधन ने उनका पूरा परिवार सदमे में है।

उनके करियर की शुरूआत टेलीविजन सीरियल्स से हुई थी। अपने शुरूआती दिनों में वे चाणक्य, भारत एक खोज, चंद्रकांता जैसे धारावाहिकों में दिखाई दिए। उन्हें ‘मकबूल’, ‘रोग’, ‘लाइफ इन अ मेट्रो’, ‘स्लमडॉग मिलेनियर’, ‘पान सिंह तोमर’, ‘द लंचबाक्स’ जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है। इरफ़ान खान को अभिनय के लिए 2011 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

Share