इरफान खान को पहले से था मौत का अंदाजा, आखिरी ऑडियो में कही थी ये बात

नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्टर इरफान खान दो साल से गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। बीमारी की हालत में उन्होंने अपनी फिल्म ‘अग्रेजी मीडियम’ की शूटिंग पूरी की। हालांकि इरफान इस फिल्म का प्रमोशन नही कर सके थे। फिल्म के प्रमोशन के लिए उन्होंने अपने फैंस के लिए एक ऑडियो मैसेज जारी किया था। अपने इस आखिरी ऑडियो मैसेज में उन्होंने एक बड़ा संदेश भी दिया था। इरफान के इस आखिरी आडियो को सुनकर लगता है कि इस महान अभिनेता को शायद पता चल गया था कि उनके पास चंद दिन ही बचे हैं। इरफान ने इस आडियो में कहा था कि ‘सच में जब जिंदगी आपके हाथ में नींबू थमा देती है न तो शिकंजी बनाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

इरफान खान ने आडियो में कहा था कि “हेलो भाईयों-बहनों नमस्कार। मैं हूं इरफान। मैं आज आपके साथ हूं भी और नहीं भी। खैर ये फिल्म ‘अंग्रेजी मीडियम’ बहुत खास है। सच बताउं, तो मेरी दिली इच्छा थी कि इस फिल्म को उतने ही प्यार से प्रमोट करूं, जितने प्यार से हमने इसे बनाया है। लेकिन मेरे शरीर के अंदर कुछ  अवांछित मेहमान बैठे हैं, उनसे वार्तालाप चल रहा है। देखते हैं किस करवट ऊंट बैठता है। जैसा भी होगा आपको जानकारी दे दी जाएगी।

इरफान ने अंग्रेजी में एक कहावत कही, जिसका अर्थ है कि, सच में जब जिंदगी आपके हाथ में नींबू थमाती है न तो शिकंजी बनाना बहुत मुश्किल हो जाता है। लेकिन पॉजिटिव रहने के अलावा आपके पास दूसरी च्वाइस भी किया है। इन हालातों में नींबू की शिकंजी बना भी पाते हैं या नहीं, ये आप पर निर्भर करता है। इरफान ने कहा कि इस फिल्म को हम सभी ने उसी पॉजिटिविटी के साथ मनाया है, तो मुझे उम्मीद है कि ये फिल्म आपको सिखाएगी, हंसाएगी, रूलाएगी और फिर हंसाएगी शायद।

Gyan Dairy

बता दें, इरफान खान की फिल्म ‘अंग्रेजी मीडियम’ एक ऐसे समय में रिलीज हुई जब कोरोना वायरस महामारी भारत में फैलनी शुरू हुई थी जिसके परिणाम स्वरूप देश भर के सिनेमाघर बंद हो गए थे। फिर यह फिल्म डिजिटल माध्यम से लोगों तक पहुंची। होमी अदजानिया द्वारा निर्देशित, ‘अंग्रेजी मीडियम’ एक बाप-बेटी के रिश्ते के इर्द-गिर्द घूमती है, जो इरफान और राधिका द्वारा निभाया गया है। इसमें डिंपल कपाड़िया और करीना कपूर खान भी हैं।

Share