अस्थमा के रोगी इन उपायों को अपनाकर रखें अपना ख्याल

नई दिल्ली। सर्दियों के मौसम में अस्थमा के रोगियों को अपना खास ख्याल रखना पड़ता है। उन्हें इस मौसम में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में वह कुछ घरेलू चीजों का उपयोग कर अस्थमा से होने वाली समस्याओं से दूरी बनाये रख सकते हैं। अस्थमा के रोगियों को इस बढ़ते प्रदूषण में अधिक से अधिक हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए। हरी सब्जियों के सेवन से फेफड़ों में कफ जमा नहीं होता है, ऐसे में अस्थमा अटैक आने का खतरा भी कम होता है। साथ ही हरी सब्जियों के नियमित सेवन से आंते और फेफड़ों की परेशानियां दूर रहती हैं। शहद और दालचीनी का सेवन करने से सर्दी-जुकाम की समस्याएं दूर रहती हैं। ऐसे में अस्थमा के मरीजों के लिए भी शहद और दालचीनी फायदेमंद साबित हो सकता है। रात में सोने से शहद और दालचीना का सेवन करें। इससे अस्थमा में होने वाली परेशानियां दूर रहेंगी। तुलसी सर्दी और कफ की परेशानियों को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है।

तुलसी एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। ऐसे में सर्दी-जुकाम के रोगियों को अपने डाइट में तुलसी के पत्तों को शामिल करना चाहिए। अगर आप सुबह चाय पीते हैं, तो चाय में 2-3 पत्तियां डालें। ऐसे में आपको अस्थमा में होने वाली परेशानियों से राहत मिलेगी। अस्थमा रोगियों को विटामिन सी से भरपूर आहार को अपने डाइट में शामिल करना चाहिए। विटामिन सी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो फेफड़ों को स्वस्थ रखने में बहुत ही अच्छा माना जाता है। इसके साथ ही अस्थमा रोगी अगर भरपूर रूप से विटामिन सी का सेवन करते हैं, तो इससे अस्थमा अटैक का खतरा कम होता है। कीबी, संतरा, मौसमी, ब्रोकली, आंवला और नींबू जैसे खाद्य पदार्थ विटामिन सी के प्रमुख स्त्रोत माने जाते हैं। दालों के सेवन से शरीर को प्रचुर रूप से प्रोटीन मिलता है। सोयबीन, काला चना, मूंग दाल, अरहर की दाल जैसे कई अन्य दालों के सेवन से आपका शरीर स्वस्थ रहता है। ऐसे में नियमित रूप से दाल को अपने डाइट में शामिल करना चाहिए। यह फेफड़ों के लिए भी अच्छा माना जाता है। ऐसे में अस्थमा के रोगियों को दाल का सेवन जरूर करना चाहिए। पाचनतंत्र को स्वस्थ रखने के लिए भी दाल अच्छा होता है।

Gyan Dairy
Share