कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोगियों के लिए वरदान है मेथी

नई दिल्ली। हरी ​सब्जियां शरीर को मजबूत बनाती है साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाती है। सर्दियों के मौसम में कई तरह की स्वादिष्ट हरी सब्जियां बाजार में आती है। जो सभी को बहुत पसंद भी आती है। ऐसी ही एक हरी सब्जी है मेथी। मेथी का सब्जी सभी को बहुत पसंद होती है। ऐसे में मधुमेह रोगी अपनी डाइट में मेथी के साग को ज़रूर शामिल कर सकते हैं। डायबिटीज़ के अलावा कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोगियों को भी मेथी खाने की सलाह दी जाती है। साथ ही, मेथी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स, विटामिन और मिनरल्स अपच और एसिडिटी को कम करने में भी मददगार होते हैं। ये कोलेस्ट्रॉल को संतुलित रखती है। वहीं, मेथी में एंटी-इंफ्लामेट्री और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो अर्थराइटिस के मरीज़ों के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। यह जोड़ों में होने वाले दर्द और सूजन को कम करता है। मेथी कई बीमारियों को दूर करने में कारगर साबित होती है। मेथी को आयुर्वेद में भी औषधि का दर्जा दिया गया है। मेथी में हाइड्रॉक्सिसिलुसीन नामक एक एमिनो एसिड होता है, जो एक तरह का मधुमेह रोधक गुण है।

इसके अलावा, इसमें मौजूद ग्लैक्टोमेनन डाइजेशन के रेट को कंट्रोल करता है, जिससे शरीर में कार्ब्स जल्दी ब्रेकडाउन नहीं होते और ब्लड शुगर लेवल भी नियंत्रण में रहता है। मेथी के पत्ते फाइबर से भरपूर होते हैं, जो शरीर में पाचन क्रिया को धीमा करते हैं जिससे शुगर का अब्जॉर्प्शन जल्दी नहीं होता। साथ ही इसके सेवन से शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाने में भी मदद मिलती है। लोग इसे पराठे, थेपला, वडा, ओट्स, चावल या फिर इसकी सब्ज़ी बनाकर खा सकते हैं। हालांकि, हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, मरीज़ों को रोज़ाना एक मुट्ठी से ज़्यादा मेथी के पत्तों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

Gyan Dairy
Share