UA-128663252-1

प्रेग्नेंसी में वरदान है चुकंदर का सेवन, जानें फायदे

नई दिल्ली। गर्भवती महिला को अपनी सेहत की विशेष देखभाल करनी चाहिए। प्रेग्नेंट महिलाओं को संतुलित आहार और आवश्यक विटामिन, कैल्शियम और आयरन का भी सेवन करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को चुकंदर यानी बीटरूट का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए।

चुकंदर में फाइबर, फॉलेट, पोटैशियम, मैग्नीज, आयरन और विटमिन सी भरपूर मात्रा में होता है। चुकंदर खाने के सेहत से जुड़े भी ढेरों फायदे हैं। वैसे तो प्रेग्नेंसी के दौरान भी चुकंदर खाना सेफ माना जाता है। चुकंदर में ऐसे कई न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं जो गर्भ में पल रहे भ्रूण के विकास में मददगार साबित हो सकते हैं। इसके बावजूद प्रेग्नेंसी में चुकंदर खाने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

चुकंदर में फॉलेट यानी फॉलिक ऐसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास के लिए बेहद जरूरी माना जाता है। फॉलिक ऐसिड भ्रूण का विकास करने के साथ ही हेल्दी टीशूज के विकास में भी मदद करता है। साथ ही साथ फॉलिक ऐसिड का नियमित रूप से सेवन करने से होने वाले बच्चे में रीढ़ की हड्डी से जुड़ा दोष स्पाइना बिफिडा होने का खतरा भी काफी कम हो जाता है। साथ ही फॉलिक ऐसिड दिमागी विकास को भी बढ़ाता है।

Gyan Dairy

चुकंदर आयरन से भरपूर होता है और यह खून में रेड ब्लड सेल्स यानी हीमॉग्लोबिन की संख्या को बढ़ाने में मदद करता है जिससे प्रेग्नेंसी के दौरान अनीमिया होने का खतरा काफी कम हो जाता है। प्रेग्नेंसी के दौरान वैसे भी ज्यादा खून की जरूरत होती है और अगर इस दौरान ही अनीमिया हो जाए तो मां और बच्चे दोनों के लिए खतरा बढ़ सकता है। प्रेग्नेंसी में अगर अनीमिया हो जाए तो जन्म के वक्त बच्चे का कम वजन या प्रीमच्योर बर्थ का भी खतरा रहता है। इसलिए प्रेग्नेंसी में चुकंदर खाना फायदेमंद है।

गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान किसी भी तरह के इंफेक्शन से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता की जरूरत होती है। ऐसे में चुकंदर प्रेग्नेंट महिला की इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करता है। इसमें ऐंटिऑक्सिडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो इम्यूनिटी को बनाए रखने के लिए जरूरी है।

Share