UA-128663252-1

अच्छी सेहत के लिए लें पर्याप्त नींद, जानें फायदे

नई दिल्ली। नींद न आने से थकान और मानसिक तनाव होने लगता है। माना जाता है कि पूरी नींद न लेने से हमारा प्रतिरोधी तंत्र कमजोर हो जाता है। इससे संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। आज हम आपको बताएंगे अनिद्रा की समस्या से निजात पाने के उपाय।

माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति रात में छह घंटे से कम नींद लेता है तो उसे जुकाम होने की आशंका चार गुना बढ़ जाएगी। इसके पीछे कारण यह है कि नींद के शुरुआती एक तिहाई समय में शरीर का प्रतिरोधी तंत्र मजबूत होता है जो कि सर्दी जुकाम से बचाता है।

शरीर में संक्रमण को नष्ट करने के लिए नींद सबसे जरूरी है। नींद के दौरान हमारे शरीर का प्रतिरोधी तंत्र एक प्रोटीन ‘साइटोकिन्स ’ बनाकर शरीर में फैलाता है। इस प्रोटीन में विशेष तरह की श्वेत रक्त कोशिका ‘टी-कोशिका’ पायी जाती है जो शरीर के प्रतिरोधी तंत्र के लिए महत्वपूर्ण है। टी कोशिका शरीर में मौजूद किसी भी संक्रमित कोशिका पर हमला करके उसे नष्ट कर देती हैं। यानी अगर आप कम से कम आठ घंटे नींद ले रहे हैं तो साइटोकिन्स और टी कोशिकाएं पर्याप्त मात्रा में पैदा होंगी और संक्रमण के प्रति आपकी शारीरिक क्षमता बढ़ेगी।

लोग नींद न आने से इतना परेशान हो जाते हैं कि वे क्षमता से अधिक काम करके खुद को थका लेते हैं। विशेषज्ञ मानते हैं कि यह तरीका नींद आने में कारगर साबित होने की जगह शरीर के लिए खतरा बढ़ा सकता है। साथ ही विशेषज्ञ मानते हैं कि आपात स्थिति में जिन सेवाकर्मियों को ज्यादा काम करना पड़ रहा है, वे अनिद्रा के शिकार हो सकते हैं जो एक चिंता की बात है।

Gyan Dairy

औसतन हर दिन भारतीय सात घंटे की नींद लेते हैं जबकि यूरोपीय देशों में लोग सात से आठ घंटे तक सोते हैं। अनिंद्रा चिंता का विषय तो है ही, लॉकडाउन के समय स्थिति गंभीर रूप ले सकती है।

तनाव या डर के कारण नींद न आने से प्रतिरोधी तंत्र पर दोगुनी मार पड़ती है क्योंकि तब शरीर के इम्यून सिस्टम की प्रतिक्रिया देने की क्षमता असंतुलित हो जाती है। इससे तनाव बढ़ता जाता है और मानसिक अवसाद की स्थिति में पहुंचने का डर पैदा हो जाता है। वहीं शारीरिक कमजोरी आने से शरीर में फ्लू आदि का खतरा पनपता है।

Share