blog

ग्रीन-टी करेगी किडनी को नुकसान से बचाने में मदद

Spread the love

ग्रीन-टी हमारे स्वास्थ्य के लिए कई तरह से लाभदायक है। वज़न कम करने के साथ-साथ कई तरह की अन्य बीमारियों से निपटने में भी सहयोग देती है। हाल ही में एम्स के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया है कि ग्रीन टी में पाए जाने वाले यौगिक कैंसर-रोधी दवा सिसप्लेटिन से उत्पन्न किडनी के जहरीलेपन और क्षति को कम करने में प्रभावी हैं।

mood-tea-552e2c1164338_l

एम्स के फार्माकोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉक्टर वाई के गुप्ता ने बताया अध्ययन में सिसप्लेटिन से किडनी को होने वाली क्षति को रोकने में ग्रीन टी से प्राप्त पोलीफेनोलिक यौगिक एपिकाटेकिन गैलेट ईसीजी की उपयोगिता का आकलन किया गया। सिसप्लेटिन के दुष्प्रभाव से नेफ्रोटॉक्सिटी और किडनी को बहुत अधिक क्षति हो सकती है। उन्होंने साथ ही कहा इस नई खोज से सिसप्लेटिन के दुष्प्रभाव से निपटने के लिए दवा की खोज की संभावना पैदा हो गई है।

विशेषज्ञों की मानें तो इस रिसर्च से एक नई दवा की खोज हो सकती है जो सिसप्लेटिन के दुष्प्रभावों से मुकाबला कर सके। कैंसर के इलाज के क्रम में कीमोथेरिपी में इस दवा का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर होता है।

एम्स के फार्माकोलॉजी विभाग की प्रोफेसर जागृति भाटिया और उनकी टीम का अध्ययन हाल ही में लैबरॉट्री इंवेस्टीगेशन्स जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

You might also like