डायबिटीज, शुगर में फायदेमंद साबित होता है अमरूद

नई दिल्ली। आयुर्वेद में अमरूद को औषधीय गुणों की खान माना जाता है। इसके सेवन से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। इसे उल्टी रोकने में असरदार माना जाता है, साथ ही यह हृदय रोगों से भी बचाव करता है। कोरोना में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी यह उपयोगी होता है। वैसे तो यह भारत में मिलने वाला एक साधारण फल है, जिसका प्राचीन संस्कृत नाम अमृत या अमृत फल है। बनारस में प्रायः सभी लोग इसे अमृत नाम से ही पुकारते हैं। अमरूद के पत्तों के पानी को डायबिटीज में फायदेमंद माना जाता है।

दरअसल, यह खून में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करता है। इसके अलावा यह यह शरीर में जटिल स्टार्च को भी शुगर में बदलने से रोकता है, जिससे वजन कम करने में भी मदद मिल सकती है। अमरूद की तरह ही इसके पत्ते भी बड़े काम के होते हैं। इनमें एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो कई बीमारियों से बचाते हैं। चूंकि अमरूद के पत्तों में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, ऐसे में इसका पानी पीने से आपके पेट का दर्द दूर हो सकता है। साथ ही यह उल्टी से भी राहत दिला सकता है। इसके लिए आप अमरूद के 5-6 पत्तों को 10 मिनट तक उबालें और फिर उसे छानकर उसका पानी पी लें। जोड़ों के दर्द में भी अमरूद के पत्ते फायदेमंद हैं। इसके लिए आप अमरूद के पत्तों को कूट कर उसका लेप बना लें और उस लेप को जोड़ों पर लगाएं, इससे आपको दर्द में राहत मिलेगी। अमरूद के पत्तों का पानी दांत दर्द, मसूड़ों की सूजन और मुंह के छालों से राहत दिलाने का काम करता है। आप इसके पत्तों को उबाल कर उसके पानी से गरारा करें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

Gyan Dairy
Share