लाइफस्टाइल: यह आदतें तुरंत बदल लें, हो सकते हैं बर्बाद

आदतें अच्‍छी या बुरी कैसी भी हो सकती हैं। लेकिन कुछ आदतें व्‍यक्ति के जीवन को इस कदर प्रभावित करती हैं कि वह हर समय तकलीफ और समस्‍याओं से ही जूझता रहता है। जी हां वास्‍तु शास्‍त्र में इसका उल्‍लेख मिलता है। लेकिन यह भी कहा गया है कि अगर समय रहते ही इन आदतों में सुधार कर लिया जाए तो ये लाइफ को खुशियों की तमाम सौगात भी दे सकती है। ऐसी ही कुछ आदतों का हम जिक्र कर रहे हैं, यदि आप भी जाने-अंजाने ऐसा करते हैं तो कोशिश करें कि इन खराब आदतों को बदलने की।

चिल्लाकर बात करना

आपने अक्‍सर ही घर पर बड़े-बुजुर्गों को यह कहते सुना होगा कि शांत‍ि से बात करनी चाहिए। किसी से कभी भी चिल्‍लाकर बात नहीं करनी चाहिए। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि जोर से या फिर चिल्‍लाकर किसी से भी बात करना क्‍यों गलत होता है? वास्‍तु शास्‍त्र में बताया गया है कि ऐसा करने से शनि दोष का प्रभाव बढ़ता है। जीवन में सबकुछ उल्‍टा-पुल्‍टा होने लगता है। विरोधियों की संख्‍या बढ़ने लगती है। बेवजह की टेंशन बढ़ती है और काम भी बिगड़ने लगते हैं। लेकिन शांति और स्‍नेह से बात करने से शनि देव प्रसन्‍न होते हैं। यही नहीं अगर जीवन में कुछ परेशानियां भी हैं तो वह भी खत्‍म होने लगती हैं।

देर तक सोना
आपने किताबों में पढ़ा होगा या फिर घर-परिवार में बड़े-बुजुर्गों से सुना होगा कि जल्‍दी सोना और जल्‍दी उठना सेहत के लिए अच्‍छा होता है। लेकिन आजकल देर से सोना और देर तक सोना एक अलग तरह का स्‍टेट्स सिंबल माना जाने लगा है। हालांकि कई बार लोग काम अधिक होने का भी तर्क देते हैं। जिसके चलते देर रात सोना होता और देर सुबह से उठना होता है। लेकिन वास्‍तु शास्‍त्र में इस आदत को पूरी तरह से गलत बताया गया है। कहा जाता है कि इससे व्‍यक्ति का स्‍ट्रेस बढ़ता है और मानसिक तकलीफें बढ़ती हैं। कई बार सेहत में भी लगातार गिरावट होने लगती है।

इधर उधर थूकना
आपने अक्‍सर ही ऐसे लोगों को देखा होगा जो अपने आस-पास देखे बिना कहीं भी थूक देते हैं। वास्‍तु शास्‍त्र में इस आदत को तुरंत ही बदल डालने के बारे में कहा गया है। इसके मुताबिक ऐसा करने वालों से मां लक्ष्‍मी हमेशा के लिए रूठ जाती हैं। इन्‍हें जीवन भर पैसों और मान-सम्‍मान की तंगी झेलनी पड़ती है। इससे कई बार डिप्रेशन तक का शिकार हो जाते हैं। वहीं कभी इन्‍हें किसी के चलते पैसा या मान-सम्‍मान मिल भी जाए तो वह इनकी इसी आदत के चलते ज्‍यादा देर तक नहीं ठहरता। इसलिए ऐसी आदत को ज‍ितनी जल्‍दी हो बदल देना ही उचित होता है।

Gyan Dairy

इनका भूले से भी न करें अपमान

आपने यह तो सुना ही होगा कि अपने से बड़ों का हमेशा ही सम्‍मान करना चाहिए। धर्मशास्‍त्र भी यही कहते हैं। मान्‍यता है कि जिस घर में बड़े-बुजुर्गों का सम्‍मान किया जाता है उनके जीवन में कभी भी किसी भी तरह की परेशानी नहीं आती। लेकिन अगर कोई बड़े-बुजुर्गों का अपमान करता है। उनके साथ ऊंची आवाज में बात करता है। या फिर उनका ख्‍याल नहीं रखता। तो ऐसे लोगों के जीवन में सुख-समृद्धि की कमी बनी ही रहती है। मां लक्ष्‍मी ऐसे लोगों पर कभी भी कृपा नहीं करतीं। लेकिन अगर आप बड़े-बुजुर्गों का सम्‍मान करते हैं, उनका ख्‍याल रखते हैं मां लक्ष्‍मी के साथ ही सभी देवी-देवताओं की कृपा बरसती है।
जीवन में किसी भी बात की कोई कमी नहीं होती।

ऐसा करने से घटने लगता है मान-सम्‍मान

वास्‍तु शास्‍त्र में साफ-सफाई पर‍ विशेष ध्‍यान देने के लिए कहा गया है। कहा जाता है जितनी सफाई रखी जाए मां लक्ष्‍मी उतनी ही मेहरबान होती हैं। लेकिन यह केवल घर या फिर कपड़ों की नहीं बल्कि पैरों की भी होनी चाहिए। कहते हैं कि पैर जितने साफ रखें जाएं, किस्‍मत उतनी ही अच्‍छी होती है। लेकिन अधिकतर लोग अपने चेहरे का तो ख्‍याल रखते हैं लेकिन पैरों पर ध्‍यान नहीं जाता। वास्‍तु के मुताबिक अगर किसी के पैर गंदे होते हैं तो उसके मान-सम्‍मान में कमी होती है। मानसिक तनाव भी बढ़ता है। साथ ही एक के बाद एक समस्‍या लगी ही रहती है।

Share