UA-128663252-1

मोटापे से हो सकती हैं कई जानलेवा बीमारियां, जानें अहम बातें

नई दिल्ली। आज की भागमभाग भरी लाइफस्टाइल से मोटापा आम बात हो गई है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मोटापा हृदय रोग, मधुमेह, निद्रा कालीन श्वास समस्या जैसे कई जानलेवा बीमारियां का प्रमुख कारण है। इसके प्रमुख कारण अत्यधिक कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन, शारीरिक गतिविधियों का अभाव, आनुवांशिकी का मिश्रण हो सकता है।

जन्मजात हृदय रोग, जन्म के समय हृदय की संरचना की खराबी के कारण होती है। जन्मजात हृदय की खराबियां हृदय में जाने वाले रक्त के सामान्य प्रवाह को बदल देती हैं। जन्मजात हृदय की खराबियों के कई प्रकार होते हैं जिसमें मामूली से गंभीर प्रकार तक की बीमारियां शामिल हैं। वही लकवा या पक्षाघात एक वायु रोग है, जिसके प्रभाव से संबंधित अंग की शारीरिक प्रतिक्रियाएं, बोलने और महसूस करने की क्षमता खत्म हो जाती हैं।

डायबिटीज मेलेटस जिसे सामान्यतः मधुमेह कहा जाता है, चयापचय संबंधी बीमारियों का एक समूह है जिसमें लंबे समय तक उच्च रक्त शर्करा का स्तर मधुमेह के लक्षणों में मोटापा को विशेष मन गया है।

मोटापा कमर दर्द का कारण बन सकता है। शरीर के मध्य भाग में अतिरिक्त भार होना पेल्विस को आगे की ओर खींचता है और कमर के निचले हिस्से पर दबाव डालता है। इस अतिरिक्त भार को संभालने के लिए कमर आगे की ओर झुक जाती है। इसलिये हमेशा अपना वजन नियंत्रित कर के रखें।

Gyan Dairy

मोटापा से निद्रा रोग यानि नार्कलेप्सी एक तंत्रिका संबंधी विकार है जो सोने और जगने को नियंत्रित करने वाले, दिमागी हिस्से को प्रभावित करता है. इस रोग से पीड़ित लोग दिन में अत्यधिक नींद का अनुभव करते हैं।

कैंसर शरीर की कोशिका अथवा कोशिकाओं के समूह की असामान्य एवं अव्यवस्थित वृद्धि हैं, जो एक गाँठ अथवा ट्यूमर का रूप ले लेती हैं। सभी असामान्य वृद्धि कैंसर नहीं होती। कैंसरयुक्त गाँठ को मेलिग्नेंट गाँठ तथा कैंसर रहित गाँठ कहते है।

रक्तवाहिनियों में बहते रक्त द्वारा वाहिनियों की दीवारों पर द्वारा डाले गये दबाव को कहते हैं। धमनियां वह नलिका है जो पंप करने वाले हृदय से रक्त को शरीर के सभी ऊतकों और इंद्रियों तक ले जाते हैं। इसका प्रमुख कारण मोटापा ही बताया गया है।

Share