सुखी विवाहित जोड़ों के 5 राज़

बहुत से लोग आपको यह कहकर डराएंगें कि शादी एक कठिन काम है। ऐसा नहीं हैं, या फिर कम से कम ऐसा नहीं होना चाहिए। अगर यह कठिन काम है, तो शायद यह इसलिए होगा क्योंकि आप और आपका साथी वास्तव में स्वार्थी है। विवाह एक काम है, मैं इस बात से इनकार नहीं करूंगी, लेकिन, यह एक मज़ेदार काम है। यह उस सपने की तरह है जो आप रात में देखते हैं, उसे पूरा करने के लिए खुशी से सुबह जागते है और जिससे आपको कभी छुट्टी भी नहीं चाहिए।

अगर आप सरल विवाह के बारे में सोच रहे हैं तो इन नियमों का पालन करें। ये अधिक कठिन नहीं हैं और ये आपको एक बेहतर इंसान बनाएंगे।

बुरे मत बनो

बुरा, असभ्य, मतलबी, अप्रिय जैसे बहुत सारे शब्द हैं जो रुकावट पैदा करने वाले के व्यवहार का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं लेकिन आप जो करने जा रहे हैं, वह जर्की है या नहीं, यह पता लगाने का आसान तरीका है कि आप स्वयं से पूछें ‘क्या यह आपके साथी को परेशान करेगा?’ यदि आपका जवाब ‘हाँ’ हैं तो ऐसा न करें।

स्वार्थी मत बनो

स्वार्थी होने का अर्थ केक का आखिरी टुकड़ा लेने से कहीं अधिक होता है, इसका मतलब यह सोचना नहीं है के आपके कार्य किसी दूसरे को कैसे प्रभावित करेंगे। अगर आप स्वयं को रेशनेलाइज़ कर रहे हैं कि जो आपको साथी नहीं जानता उससे उन्हें परेशानी नहीं होगी तो शायद आप स्वार्थी हो रहे हैं। इसका अंत कभी भी अच्छा नहीं होता है।

Gyan Dairy

विचारशील बनो

हाल ही में व्यक्तित्व और सामाजिक मनोविज्ञान के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में यह पाया गया है कि बदसूरत पत्नियों की अपेक्षा आकर्षक पत्नियों के साथ पुरुषों के जीवन में वैवाहिक खुशी अधिक होती है। आकर्षक पतियों के साथ महिलाओं की वैवाहिक खुशी की दर अधिक ऊँची नहीं होती, लेकिन आकर्षक पुरुषों के साथ आकर्षक पत्नियों के जीवन में वैवाहिक खुशी की दर अधिक ऊँची होती है। अपने रिश्ते में खुश होने के लिए आपको सुपरमाॅडल होने की आवश्यकता नहीं है।

देने वाले और प्रशंसा करने वाले बनो

विवाह का अर्थ काम और लेन-देन का 50-50 विभाजन नहीं है, बल्कि यह देना और प्राप्त करना है। निश्चित रूप् से देना एक काम है, लेकिन, अगर आप दोनों ही देने वाले और प्रशंसा करने वाले हैं तो यह काम मज़ेदार हो जाता है। बुनियादी मानवीय बातचीत से आपको दिखाई देगा कि लोगों को प्रशंसा पाना पसंद होता है और अगर कोई आपके लिए काम करता है और आप उसकी प्रशंसा करते हैं तो संभावना है कि वह फिर से वही काम करे। इसलिए, अपने साथी और उनके द्वारा आपके लिए किए गए प्रत्येक काम को सरलता से न लें।

एक दूसरे का आदर करें

एकदूसरे के प्रति विनम्र और दयालु बनें। किसी को कुछ कहने से पहले एकबार सोचें कि आपकी कही बात आपके साथी कों को कैसी लग सकती है। इस पर ध्यान दें कि आप जो कर रहे हैं, वह आपके साथी को लंबे समय के बाद कैसे प्रभावित करेगा। अपने कार्यों के प्रति विचारशील और अपने शब्उों के प्रति सावधान रहें। अगर आप अच्छे इंसान हैं तो एक सुखद रिश्ता बनाए रखना मुश्किल नहीं है और क्या मालूम कि आप भी ऐसा ही चाहते हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share