UA-128663252-1

ज्यादा खाते है चावल तो हो जाएं सतर्क

नई दिल्ली। भारत में अधिकतर लोगों की खाने में पहली पसंद चावल भी होता है। कई लोग तो यह भी मानते है कि चावल खाये बगैर खाना ही पूरा नही होता है। चावल का इस्तेमाल भी अलग-अलग पकवानों में होता है। वैसे अक्सर बुजुर्ग हिदायत देते हैं कि चावल का सेवन कम करो। हाल ही में एक शोध के आधार पर दावा किया गया है कि ज्यादा चावल खाने से सेहत को नुकसान हो सकता है। वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन में पाया है कि चावल में कुदरती तौर पर आर्सिनक रसायन की मौजूदगी होती है, जो स्वास्थ्य से संबंधित कई बीमारियों को जन्म देता है। इसलिए ज्यादा चावल खाने से दिल से संबंधित बीमारी होने की आशंका 25 प्रतिशत तक ज्यादा हो जाती है। शोध में पाया गया कि ब्रिटेन में 25 प्रतिशत लोग जो चावल का नियमित सेवन करते हैं, उनमें 6 प्रतिशत लोगों पर दिल से संबंधित बीमारियों के कारण मौत का खतरा रहता है। शोध में कहा गया है कि धान के पौधों में कुदरती तौर पर कई रसायन पाए जाते हैं, जिनके कारण लीवर कैंसर तक की आशंका होती है। अधिकतर जोखिम होने पर व्यक्ति की मौत तक हो सकती है।

वैज्ञानिकों ने पाया है कि चावल का ज्यादा सेवन करने से दिल की बीमारी इसलिए होती है, क्योंकि धान में कुदरती तौर पर खतरनाक आर्सेनिक की मौजूदगी होती है। आर्सेनिक धरती में प्राकृतिक स्तर पर पाया जाता है। इसके अलावा, आर्सेनिक उन जगहों पर ज्यादा पाया जाता है, जहां कीटनाशकों का प्रयोग ज्यादा होता है। जब भी कीटनाशक या उर्वरक का इस्तेमाल होता है तो यह पानी के माध्यम से आस-पास पूरे क्षेत्र में फैल जाता है। धान की खेती के लिए गर्म वातावरण चाहिए, लेकिन पानी हमेशा पौधों की जड़ में लगा होना चाहिए। जब पौधे बड़े होने लगते हैं, तब मिट्टी से आर्सेनिक निकलकर पानी में आ जाता और पानी के माध्यम से पौंधों की जड़ें इसे अवशोषित कर लेती हैं। इसके बाद यह पूरे पौधे में पहुंच जाता और अंततः चावल में आ जाता है। माना जाता है कि वातावरण जितना गर्म होगा, आर्सेनिक उतनी मात्रा में धान में पहुंचेगा। एक अन्य अध्ययन में पाया गया है कि वैश्विक स्तर पर बढ़ते तापमान के कारण धान में आर्सेनिक की मात्रा में तीन गुना तक की वृद्धि हो सकती है।

Gyan Dairy
Share