पुरुष कैसे छुपाते हैं अपने दिल के दर्द को?

हमेशा से यही माना आता जा रहा है कि पुरुष महिलाओं की तुलना में अधिक मजबूत होते हैं। ये आसानी से ब्रेकअप को संभाल सकते हैं और उसके दर्द को खुद में हमेशा के लिये समा सकते हैं। जहां पर महिलाएं अपने दुख को रो कर या फिर गुस्‍सा दिखा कर शो करती हैं वहीं पर पुरुषों को देख कर लगता ही नहीं‍ कि उनका ब्रकअप हो चुका है। रिसर्च के अनुसार पता लगाया गया है कि पुरुष महिलाओं के मुकाबले दर्द को ज्‍यादा सहते हैं पर दिखाते नहीं हैं। पुरुष अपने दर्द को इसलिये नहीं दिखाते हैं क्‍योंकि उन्‍हें लगता है कि इससे उनकी बनाई हुई माचो छवि बिगड़ जाएगी।

विचार-विमर्श से बचते हैं

यदि आप उनसे पूछे कि क्‍या उन्‍हें कोई बात दुख पहुंचा रही है तो उनका जवाब या तो एक शब्‍द में होगा या फिर वे आप से टॉपिक चेंज करने को बोल देगें। यह बहुत ही क्‍लासिक तरीका है जब वे ऐसा करते हैं।

दोस्‍तों में ज्‍यादा समय बिताते हैं

पुरुष अपने दर्द को छुपाने के लिये दोस्‍तों के साथ ज्‍यादा समय बिताते हैं। अकेलेपन को दूर करने के लिये वे नए दोस्‍त भी बनाते हैं। रात को ज्‍यादा देर तक के लिये बाहर दोस्‍तों के साथ रहने से वे अपने दर्द और पुरानी यादों को कम करते हैं।

Gyan Dairy

दूसरों के सामने नहीं रोते

मेल ईगो बहुत मजबूत होता है। यह उन्‍हें दूसरों के सामने अपनी पीडा़ को दिखाने से रोकता है। इस मामले में उन्‍हें दूसरों की सहानुभूति नहीं चाहिये होती है।

अपने अहंकार को बढावा देते हैं

अपने दर्द को छुपाने के लिये वे अपने अंदर के ईगो को बढावा देते हैं। एक बार जब उनका मेल ईगो वापस ट्रैक पर आ जाए तब वह अपने दर्द से पूरी तरह से उबर जाते हैं।

Share