गर्भनिरोधक गोलियों के दुष्प्रभाव

गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल अनचाहे गर्भ से बचने का सबसे आम उपाय है। लेकिन एक ताजा शोध से पता चला है कि इन गोलियों के इस्तेमाल के नुकसान भी हैं। ऐसे में गर्भनिरोधक के रूप में ज्यादा सुरक्षित व आसान उपाय खोजने की जरूरत बढ़ गई है।

गोलियों का असर

गर्भनिरोधक गोलियों के चलते प्रजनन संबंधी समस्याएं आ सकती हैं। गर्भपात और प्रेगनेंसी के बीच लंबे अंतराल के खतरे बढ़ जाते हैं। गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से महिलाओं का प्रतिरोधी तंत्र भी कमजोर हो सकता है। उनमें मेजर हिस्टोकंपेटिबिलिटी काम्पलेक्स (एमएचसी) नामक विभिन्न एमएचसी अणुओं की संख्या घट सकती है।

ये अणु विभिन्न बीमारियों से लड़ने का काम करते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि बीमारियों से लड़ने के लिए शरीर में विभिन्न एमएचसी की मौजूदगी अनिवार्य है। शोध के मुताबिक इसका असर पैदा होने वाले बच्चों पर भी पड़ सकता है। उनकी प्रतिरोधक क्षमता घट सकती है।

Gyan Dairy

शोध

यह निष्कर्ष ब्रिटेन की लिवरपूल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के एक दल द्वारा किए गए अध्ययन पर आधारित है। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में 100 महिलाओं को शामिल किया। (द इंडिपेंडेंट)

Share