क्‍या अपनी पत्‍नी को अपना सीक्रेट बताना चाहिये

विवाह जैसा सुंदर रिश्ता प्रेम, निष्ठा, विश्वास, सम्मान एवं बातचीत नामक 5 मजबूत स्तंभों पर स्थित है। यदि इनमें से कोई भी एक स्तंभ कमज़ोर पड जाए तब यह पवित्र रिश्ता दम तोड देता है। लोग अपने रिश्तों को बचाने के लिए कई जतन करते हैं लेकिन फिर भी न जाने क्यों वे टूट जाते हैं। कई बार आपका अतीत आपके असफल विवाह का कारण बन सकता है। दो लोग एक दूसरे से केवल विश्वास के सहारे जुडते हैं।

जब इस विश्वास पर धोख़े की नज़र पडती है तो मंज़िल की नीव कमज़ोर लगने लगती है। यदि आप अपने रहस्यों को छुपाकर अपने रिश्ते को बेहतर बनाने के बारे में सोच रहे हैं, तब शायह यह तरीका आपके काम ना आए। अतीत के प्रेम संबंधों से जुडी कोई महत्वपूर्ण बातों को, आपकी बुरी आदतों को या मौजूदा वित्तीय संकट को अपनी पत्नी से नहीं छुपा चाहिए। कुछ मर्दों का मानना है कि कुछ रहस्यों को छुपाकर वे अपने घर की शांति को बरकरार रख सकते हैं। परंतु आपका रहस्य जब किसी परिचित व्यक्ति के द्वारा सामने आएगा तब आपकी पत्नी को पीडा होगी।

किसी भी बात को बताने से पहले आपको अपनी पत्नी के मिज़ाज़ की भी समझ होनी चाहिए। क्योंकि हर कोई समझदारी व बुद्धिमानी से काम लेगा यह कहा नहीं जा सकता। इस मामले में नीचे दी गई बातें शायद आपकी कुछ मदद कर सकें।

बात की अहमियत को समझें

हमारी ज़िंदगी में कई घटनाएं घटती हैं। उसमें से कुछ अच्छी होती हैं, कुछ बुरी। कुछ घटनाएं हम पर अपनी छाप छोड जाती हैं और कुछ बीती रात की तरह गुजर जाती हैं। अगर आपका माज़ी, मौजूदा ज़िंदगी में दखल नहीं दे रहा तो ऐसी बात अपनी पत्नी को बताना बेवकूफ़ी होगी। केवल उन बातों को बताएं जो आपको परेशान कर रहीं हों या आपके आज को मुसीबत में डाल सकती हों।

अपने अतीत के बारे में चिंता ना करें

जब आप अपने जीवन में घटे वाकये के लिए खुद को या औरों को माफ़ नहीं कर पाते हैं तब यह एक चिंता का विषय बन जाता है। क्योंकि आप इस घटना के कारण अपने मन में क्रोध, नफ़रत एवं दोष की भावना को दबाकर बैठें हैं। आपको इस वाकय पर नहीं बल्कि इस वाकय से आपके जीवन में आई सकारात्मक तबदीली पर ध्यान देने की जरूरत है। इस तरह आपका नज़रीया बदलेगा और आपको यह बात बताने की गुंजाइश भी महसूस नहीं होगी।

Gyan Dairy

जल्दबाज़ी ना करें

अक्सर दबी हुई बातें हमें बेचैन करती हैं और इस बेचैनी में हम जल्दबाज़ी कर बैठते हैं। आपकी पत्नी के मन में आपकी एक अलग छवि बनी हुई है। आप जिस बात से उन्हें रूबरू कराने जा रहे हैं वह आपकी छवि को कुरूप बना सकती है। इसलिए मौके की नज़ाकत को देखकर बात छेडें। यह भी ध्यान रखें कि क्या वह आपकी बात को समझ पाएगी या नहीं।

उसे समय दें

अब आप बात बता चुके हैं। अपने मन की कशमकश से बाहर निकाल चुके हैं और अपनी पत्नी को दुविधा में डाल चुके हैं। अतः अब प्रतिक्रिया देने की बारी उनकी है। इस दौरान कुछ नकारात्मक चीज़ें भी हो सकती हैं। परंतु आपको उन्हें समय देना होगा। यदि आपका रिश्ता प्रेम व समझ से जुडा हुआ है तब वह आपकी बात को जल्द समझ जाएगी।

बरदाश्त करने के लिए तैयार रहें

आपके रहस्य के बारे में जानकर हो सकता है कि आपकी पत्नी भी अपने जीवन से जुडा कोई रहस्य आपको बताए। जिस तरह आपके रहस्य ने आपकी पत्नी को हैरान किया है उसी तरह आपकी पत्नी का रहस्य आपको परेशान कर सकता है। बात कितनी बडी होगी यह घटना पर निर्भर करता है। यदि आप इस रिश्ते को वफादारी से निभाने की इच्छा रखते हैं तो वो भी रख सकती है।

Share