पूरी नींद न लेने का दिमाग पर पड़ता है प्रतिकूल असर

नई दिल्ली। फिट रहने के लिए सात से आठ घंटे की नींद पूरी होना ज़रूरी है। ऐसा नहीं होने पर तमाम तरह की शारीरिक और मानसिक समस्याएं होने लगती हैं। अच्छी नींद शारीरिक और मानसिक दोनों के लिए बेहद अहम है। नींद पूरी न होने की वजह से किस तरह इसका असर आपके दिमाग़ पर पड़ने लगता है और आप अकेलापन महसूस करने लगते हैं।

शोधकर्ताओं का कहना है कि दिमाग का जो हिस्सा सामाजिक तौर पर सहानुभूति के लिए ज़िम्मेदार होता है, अगर आप भरपूर नींद नहीं लेते हैं तो वह बेहतर तरह से काम नहीं कर पाता है। इसलिए ऐसे लोग दूसरों से अच्छे से व्यवहार नहीं कर पाते। जो लोग अच्छी नींद लेते हैं वो लोगों से अच्छी तरह से अपनी बात रख पाते हैं। वे समाज से ज़्यादा घुल-मिल पाते हैं लेकिन जिन लोगों की नींद पूरी नहीं होती है, वे समाज से कटने लगते हैं। वे लोगों से घुल-मिल नहीं पाते हैं। इसलिए वे अकेले पड़ने लगते हैं। वहीं नींद पूरी नहीं होने से लोगों में गुस्सा, चिड़चिड़ापन भी बढ़ जाता है। शरीर थका-थका रहता है। इसलिए कोशिश करें कि आपकी नींद पूरी हो।

Gyan Dairy
Share