लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप की साकारात्मक बातें

आप माने या न मानें, लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप में भी कुछ साकारात्मक बातें होती हैं। हालांकि यह सही है कि आप अपने प्रेमी या पति से जितना ज्यादा प्यार करेंगे, अलग रहने के बाद रिलेशनशिप के टूटने का खतरा भी उतना ही ज्यादा होगा। मैंने अपने रिलेशनशिप के पहले तीन साल अलग रहकर और फिर अगले तीन साल साथ में रहकर बिताई। इस दौरान मैंने महसूस किया कि लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप में कुछ साकारात्मक बातें भी शामिल हैं। इसे जानने के बाद यकीनन आपको कुछ मदद मिलेगी।

फ्रेंडशिप

गहरी फ्रेंडशिप किसी भी ठोस रिलेशनशिप की बुनियाद होती है। लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप की यह एक साकारात्मक बात है। अगर हम कुछ हफ्ते तक एक दूसरे को नहीं देखते हैं तो हम बतौर दोस्त एक दूसरे को जान सकते हैं। कहने का मतलब यह है कि शारीरिक आकर्षण ही सब कुछ नहीं होता।

कम्युनिकेशन

दूर रहने पर कम्युनिकेशन के रास्ते खुल जाते हैं। लांग डिस्टेंस रिलेशनशिप की यह भी एक साकारात्मक बात है। बेशक सारे कम्युनिकेशन अच्छे नहीं होते और कई बार झगड़ा भी हो जाता है। लेकिन फिर भी आमने सामने नहीं होने के कारण आप बात करने के लिए मजबूर हो जाएंगे। इसके लिए आप फोन, पत्र या स्काइपे का सहारा ले सकते हैं।

रिश्ते में ताजगी

बेशक अपने प्यार से दूर रहना बेहद तकलीफदेह होता है, पर लांग डिस्टेंस में रहते हुए रिश्ते में ताजगी बनी रहती है। रिलेशनश्पि की शुरुआत में आपके अंदर जो उत्सुकता थी वह लांग डिस्टेंस में बनी रहती है। जब भी आप मिलेंगे आपको पहले किए गए कुछ डेट जैसा ही रोमांच का अनुभव होगा।

विश्वास

विश्वास किसी भी रिलेशनशिप का सबसे महत्वपूर्ण पक्ष होता है। दूर रहने पर विश्वास और भी मजबूत होता है। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जो कपल पहले ही दिन से साथ रहते हैं, जल्द ही एक दूसरे पर शक करने लगते हैं। वह एक दूसरे के फोन, ईमेल, सोशल मीडिया वगैरह की जांच करने लगते हैं। डिस्टेंस रिलेशनशिप की अच्छी बात यह है कि आपको ठीक-ठीक पता नहीं होता कि आपका प्रेमी या पति वास्तव में क्या कर रहा है? वह कहां जाता है? किससे बात करता है? वगैरह वगैरह।

Gyan Dairy

ऐसे में दोनों के पास अपनी जिंदगी को अपने तरह से जीने की आजादी होती है। अगर आप इसके साथ खुश हैं तो आपको उनपर विश्वास भी रहेगा। जब तक दूरी समस्या न बन जाए, विश्वास और सम्मान लंबे समय तक बरकरार रहता है।

गुस्सा हो जाना

कई बार गुस्से में कई बातें बोल दी जाती हैं, हालांकि ऐसा साथ न रहने के तनाव, मिसकम्युनिकेशन और बॉडी लैंग्वेज को न पढ़ पाने के कारण होता है। दूरी की इसमें बड़ी भूमिका होती है। फेस टू फेस होने पर जहां आप तुरंत कोई कदम उठा लेते हैं, वहीं लांग डिस्टेंस में आप थोड़ा समय लेते हैं।

दोहरा फायदा

लांग डिस्टेंस में होते हुए आप दो तरह की जिंदगी जी सकते हैं- रिलेशनशिप में सुरक्षा भी होती है और सिंगल रहने की आजादी भी। आपके पास अपने दोस्तों के साथ बाहर जाने की आजादी होती। साथ ही आप अपने कैरियर पर भी ध्यान दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share