ओरल सेक्स के जो‍खिम

ओरल सेक्स के जरिए जहां दो व्यक्ति एक-दूसरे से भावनात्मक रूप से जुड़ते हैं और मानसिक तनाव से दूर होते है। वही मौखिक सेक्स के जोखिम भी कम नहीं है। पुरूषों और महिलाओं दोनों के लिए मौखिक सेक्स पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है। कई लोग यौन विविधता के कारण मौखिक सेक्स करते हैं, कुछ देर की मस्ती के कारण वे घातक बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। आइए जानें ओरल सेक्स के जोखिम के बारे में।

  • एक महिला जिसकी योनि में यीस्ट इन्फेक्शन हो क्या उसके साथ मौखिक सम्भोग करने पर पुरूष को भी यीस्ट इन्फेक्शन हो सकता है।
  • हालांकि ओरल सेक्स से कोई भयंकर बीमारी नहीं होती लेकिन ओरल सेक्स के दौरान सावधानियां और साफ-सफाई न बरती जाएं तो समस्या आ सकती है।
  • एक शोध के मुताबिक मुंह और गले के कैंसर की एक बड़ी वजह ओरल सेक्स है। ओरल सेक्स के कारण पैपीलोमा नाम का कैंसर का वायरस मुंह और गले का कैंसर फैल रहा है। अगर मुंह और गले के कैंसर से युवाओं को बचाना है तो उन्‍हें एचपीवी संक्रमण रोकने के लिए टीका लगाया जाना चाहिए। ओरल कैंसर ओरल सेक्‍स के कारण फैल रहा है।
  • टोंसिल और जीभ के नीचे के हिस्से में कैंसर की वजह एचपीवी संक्रमण को ही माना जा रहा है। ओरल सेक्स से एचपीवी का संक्रमण होता है। इस स्थिति में ओरल सेक्स को ही टोंसिल कैंसर की बढ़ी वजह माना जा रहा है।
  • ओरल सेक्स में सेक्स पार्टनरों की संख्या बढ़ने से भी ओरल कैंसर होने की संभावना भी बढ़ जाती है।
  • यदि पुरूष और महिला दोनों में से किसी को कोई संक्रमित बीमारी है तो वह भी दूसरे पार्टनर को फैलने की संभावना बढ़ जाती है।
  • यदि महिला को माहवारी है और ऐसे में ओरल सेक्स किया जाता है तो इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • यदि दोनों पार्टनर में से कोई भी एक योनिमार्ग से निकलने वाले सफेद पदार्थ को मुंह में लेता है तो भी इंफेक्श न का खतरा बढ़ जाता है।

कहने का अर्थ है कि ओरल सेक्स से जोखिम उसी वक्त है जब जोश में होश खो दिए जाएं। यौन विविधताओं के चलते मौखिक सेक्स को पूरी तरह से सुरक्षित बनाने की हर संभव कोशिश करनी चाहिए। तभी महिला और पुरूष भावनात्मक और मानसिक रूप से पूरी तरह से जुड़ पाएंगे।

Gyan Dairy
Share