वरिष्ठ नागरिकों में सेक्स समस्‍या

जिस तरह इंसान को उम्र के आखिरी पहर तक भूख लगती है,प्यास लगती है और वह अन्य दैनिक कार्य करता है ठी‍क उसी तरह सेक्स की इच्छा भी इंसान में आखिरी समय तक बनी रहती है। लेकिन वृद्धावस्था ऐसी उम्र है जब अपनी यौन इच्छाओं को पूरा करना सहज सुलभ नहीं हो पाता। ऐसे में वरिष्ठ नागरिक अपनी सेक्स इच्छा की पूर्ति के लिए कुछ न कुछ तरीके ढूंढते रहते हैं।

वृद्धावस्था में जरूरी भी नहीं कि सभी को सेक्स में रूचि हो। हालांकि सेक्स के लिए कोई उम्र नहीं होती लेकिन वृद्धावस्था में यौन संबंधों में कम रूचि होना भी स्वाभाविक ही है। बहरहाल, उम्र के आखिरी पड़ाव पर वरिष्ठ नागरिकों में क्या सेक्स समस्याएं हो सकती हैं। आइए जानें वरिष्ठ नागरिकों में सेक्स से संबंधित समस्याओं के बारे में।

Gyan Dairy
  • कुछ वरिष्ठ नागरिकों में उम्र के साथ-साथ सेक्सुअल डिजायर बढ़ जाती हैं, तो कुछ में बिलकुल ही कम हो जाती है। ये हैरानी वाली बात नहीं बल्कि जैसे प्यार की कोई उम्र नहीं होती ठीक वैसे ही सेक्स के लिए कोई उम्र नहीं।
  • वरिष्ठ नागरिकों के लिए अपनी यौन इच्छाओं को पूरा करना आसान नहीं क्योंकि इसका कारण उम्र के साथ होने वाली दूसरी स्वास्‍थ्‍य समस्याएं हैं और उम्र के साथ सेक्स संबंधी समस्याओं का होना भी आम है।
  • अगर आपकी सेक्स इच्छा में कमी हो रही है, तो इस विषय में सबसे पहले अपने पार्टनर से बात करें और हो सके तो चिकित्सक से इस बारे में बातें करें।
  • उम्र के साथ पुरूषों में इरेक्टाकइल डिस्फंबशन की समस्या हो सकती है और इसका कारण हो सकता है डायबिटीज़, पार्किंसन, थकान, तनाव जैसी समस्या।
  • पुरूषों में उम्र के बढ़ने के साथ टेस्टोस्टेरोन नामक हार्मोन का स्तर कम हो जाता है और इसके कारण सेक्स इच्छा में कमी भी है।
  • इसके विपरीत मेनोपाज के बाद अधिकतर महिलाओं की सेक्स शिक्षा में कमी हो जाती है।

वरिष्ठ नागरिक अपनी सेक्स लाइफ को रूचिपूर्ण बनाने के लिए कुछ ऐसे टिप्स अपना सकते हैं

  • अपने पार्टनर से हर विषय पर खुलकर बातें करें।
  • अपने स्वास्‍थ्‍य पर नज़र रखें।
  • उम्र के साथ होने वाली समस्याओं के साथ सेक्स जीवन का आनंद उठाने की कोशिश करें।
  • धूम्रपान और अल्कोवहल का सेवन ना करें।
  • सेक्‍स समस्याओं के बारे में आप चिकित्सीय सलाह भी ले सकते हैं।

शोधों की मानें तो इंसान सही मायने में यदि प्यार और सेक्स का आनंद लेता है तो वह है वृद्धवस्था। जिसमें न किसी तरह का तनाव होता है और न ही कोई जिम्मेपदारी। लेकिन उम्र के इस पड़ाव तक पहुंचते-पहुंचते इंसान न सिर्फ कई बीमारियों से घिर चुका होता है बल्कि उसकी शक्ति भी क्षीण हो चुकी होती है। लेकिन इन बातों का ध्यान रखकर अपने पार्टनर के साथ सुखी जीवन व्यतीत कर सकते हैं और अपनी सेक्स समस्याओं को भी आसानी से दूर कर सकते हैं।

Share