मर्दों को गर्लफ्रैंड क्‍यूं लगती है बीबी से बेहतर

अगर आप किसी लड़के से पूछें कि उसे क्‍या चाहिए – एक गर्लफ्रैंड; या वाइफ। तो 90 प्रतिशत लड़के बोलेंगे कि उन्‍हें एक गर्लफ्रैंड चाहिए। बहुत ही कम लोग ऐसे होंगे जिन्‍हें वाइफ चाहिए होगी। आदमियों को हमेशा गर्लफ्रैंड चाहिए होती है क्‍योंकि उन्‍हें अपनी स्‍वतंत्रता और स्‍वछंदता से बेहद प्‍यार होता है। अगर उनकी जिदंगी में वाइफ होगी तो उन्‍हें उसका ख्‍याल रखना होगा, उसकी बात माननी होगी और जिम्‍मेदारी उठानी होगी लेकिन गर्लफ्रैंड में ऐसी कोई झंझट नहीं होती है।

उसे टाइम देने के बाद आप आजाद हैं, जो चाहें वो कर सकते हैं। ऐसे ही कुछ अन्‍य कारण हैं जिनकी वजह से मर्दों को गर्लफ्रैंड ज्‍यादा लगती हैं बजाय बीबी के। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ कारण

ज्‍यादा आजादी

बीबी से ज्‍यादा आजादी गर्लफ्रैंड देती है क्‍योंकि उसे आपके लिए ज्‍यादा चिंता या भावना नहीं होती है और होती भी है तो बहुत सीमित। मर्दों को गर्लफ्रैंड गले का फंदा नहीं बल्कि गले का हार लगती हैं।

सवाल नहीं पूछती

गर्लफ्रैंड को पल-पल का हिसाब नहीं देना पड़ता है वो अलग बात है कि लड़के अपनी मर्जी से उसके करीब जाने के लिए हर बात बताते रहें। लेकिन बात-बात पर सवाल पूछना गर्लफ्रैंड की आदत नहीं होती है और इसीलिए हर लड़का बीबी नहीं गर्लफ्रैंड चाहता है।

नजऱ रखने वाला कोई नहीं

गर्लफ्रैंड, बहुत नज़र नहीं रख पाती है क्‍योकि वो हमेशा साथ नहीं होती। लेकिन बीबी को अधिकार प्राप्‍त होते हैं कि वह आपके साथ रहें। ऐसे में उससे बचकर नटखटगिरि करना मुश्किल हो जाता है। गर्लफ्रैंड बहुत ज्‍यादा कंट्रोल नहीं कर पाती हैं, ऐसे में उन्‍हें गर्लफ्रैंड ही पसंद आएं।

Gyan Dairy

अनुमति नहीं मांगनी पड़ती

गर्लफ्रैंड से हर बात की परमीशन नहीं मांगनी पड़ती है। लेकिन कोई मर्द शादीशुदा है तो उसे अपनी बीबी से हर बात पर परमीशन या सलाह लेना आवश्‍यक हो जाता है वरना वो गुस्‍सा हो जाती है।

दस्‍तावेज़ों की जरूरत नहीं

शादी के बाद कई तरह के पेपरवर्क होते हैं लेकिन अगर बिना शादी के ही आपको कोई पार्टनर मिलता है तो वो ज्‍यादा अच्‍छा है। बस यही सोचकर लड़कों को गर्लफ्रैंड ज्‍यादा पसंद आती हैं। उन्‍हें लगता है जब वो ज्‍यादा चिपकेगी तो उन्‍हें हटाकर कोई और गर्लफ्रैंड बनाना ज्‍यादा विकल्‍प है। लेकिन बीबी में ऐसा करना लफड़े वाला काम है।

शारीरिक सम्‍बंध

यह कोई फालतू में कही गई बात नहीं है ऐसा तथ्‍य है कि लड़कों को अपने जीवनसाथी के बजाय बिना शादी के ही सम्‍बंध बनाने में ज्‍यादा मज़ा आता है। फिर भले ही वो सिर्फ उसी के होकर रहें लेकिन शादी के बाद मिजाज़ थोड़ा बदल जाता है।

Share