जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर धमाका: आतंकी एंगल से जांच में जुटी NIA की टीम, ड्रोन से हमले की आशंका

जम्मू। जम्मू एयरपोर्ट स्थित एयरफोर्स स्टेशन के भीतर शनिवार देर रात महज पांच मिनट के अंतराल में दो बड़े धमाके हुए। इन धमाकों के बाद हड़कंप मच गया। आनन—फानन में इसकी जांच एजेंसियों ने इसकी जांच शुरू कर दी। इस घटना के पीछे पाकिस्तान पर शक गहराता नजर आ रहा है। बताया जा रहा है कि इस विस्फोट के लिए दो ड्रोन का इस्तेमाल किया गया था और टारगेट भारतीय वायुसेना के विमान थे। ऐसे में अब सवाल उठते हैं कि क्या ड्रोन का निशाना भारतीय वायुसेना के एयरक्राफ्ट थे, क्या फिर से पठानकोट अटैक दोहराने की साजिश थी? इन सभी सवालों का जवाब तलाशने में पुलिस के साथ-साथ केंद्रीय एजेंसियां जुट गई हैं।

इसके साथ ही आतंकी एंगल से भी घटना की जांच की जा रही है। वहीं, केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इस विस्फोट को लेकर जम्मू में वायु सेना स्टेशन पर वाइस एयर चीफ, एयर मार्शल एचएस अरोड़ा से बात की है। एयर मार्शल विक्रम सिंह स्थिति का जायजा लेने जम्मू पहुंच रहे हैं। एयरबेस के पास ड्रोन विस्फोट में भारतीय वायु सेना के दो कर्मियों को मामूली चोटें आईं हैं। फिलहाल, जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया कि इस मामले में यूएपीए के तहत केस दर्ज कर लिया गया है।

पी-16 ड्रोन के जरिए कराए गए धमाके
बताया जा रहा है कि इस साजिश को अंजाम देने के लिए पी-16 ड्रोन का इस्तेमाल किया गया है। ये ड्रोन काफी नीचे उड़ सकता है। इसकी वजह से कई बार यह रडार की नजर से भी बच जाता है। सूत्रों का कहना है कि ड्रोन का संभावित लक्ष्य म्यूजियम बिल्डिंग और एयरक्राफ्ट था।

Gyan Dairy

सभी एयरफोर्स स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ाई गई, जम्मू में हाई अलर्ट
जम्मू एयरफोर्स स्टेशन, उधमपुर समेत सभी एयरफोर्स स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। जम्मू में हाई अलर्ट है। माता वैष्णो देवी धाम के साथ ही अन्य प्रमुख स्थलों की सुरक्षा कड़ी की गई है। एयरफोर्स स्टेशन में ड्रोन घुसने की घटना सुरक्षा संबंधी कई सवाल खड़े कर रही है। बता दें कि पाकिस्तान सीमावर्ती इलाकों में लगातार ड्रोन के जरिए रेकी कर रहा था।

 

Share