राज्यसभा में 44 सासंदो ने ली शपथ, जब आमने-सामने आए सिंधिया और दिग्विजय…

नई दिल्ली। राज्यसभा में आज 45 नवनिर्वाचित सदस्यों ने शपथ ग्रहण की। इनमें 36 सांसद वो हैं जो पहली बार राज्यसभा पहुंचे हैं बाकी सब पहले भी सासंद चुने जा चुके हैं। बता दें कि हाल ही में हुए राज्यसभा चुनाव/उपचुनाव में 20 राज्यों से 61 सदस्य चुनकर आए हैं, जिनमें से 45 ने आज शपथ ली। इनमें शरद पवार, दिग्विजय सिंह और रामदास अठावले समेत ऐसे 12 सिटिंग सांसद हैं, जो आज शपथ ग्रहण का हिस्सा बने। कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में गए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ ली।


वहीं आज सबसे ज्यादा दिलचस्प मामला तब सामने आया जब ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह का आमना-सामना हुआ। दोनों ने मास्क पहना हुआ था। जब सिंधिया और दिग्विजय का सामना हुआ तो दोनों ने एक-दूसरे के सामने हाथ जोड़कर अभिवादन किया। दोनों नेता जब एक दूसरे का अभिवादन स्वीकार रहे थे उस वक्त वहां राज्यसभा में नेता विपक्ष और कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद भी मौजूद थे। गुलाम नबी आजाद भी हाथों से कुछ इशारा करते हुए दिखाई दिए।

राज्यसभा में आज नव निर्वाचित सदस्यों को उनके पद और गोपनियता की शपथ दिलाई गई है। ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह, शरद पवार, मल्लिकार्जुन खरगे, शिबू सोरेन, प्रियंका चतुर्वेदी, केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले, भुवनेश्वर कलिता समेत 44 नए सांसदों ने आज शपथ ली। नए सदस्यों को राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के चेंबर में शपथ दिलवाई गई है। शपथ समारोह के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया।

अब सदन में बीजेपी सांसदों की संख्या 75 से बढ़कर 86 हो गई। राज्यसभा के चुने सदस्यों में बीजेपी के 17, कांग्रेस के 9, जेडीयू के 3, बीजद और वाईएसआर कांग्रेस के चार-चार, अन्नाद्रमुक और द्रमुक ने तीन-तीन, एनसीपी, आरजेडी और टीआरएस ने दो-दो और शेष सीटें अन्य ने जीतीं। 61 सदस्यों में से 43 पहली बार चुने गए हैं जबकि बाकी 18 सदस्यों ने राज्यसभा में दोबारा वापसी की है।

मध्य प्रदेश- ज्योतिरादित्य सिंधिया (बीजेपी), दिग्विजय सिंह (कांग्रेस), सुमेर सिंह सोलंकी (बीजेपी)

महाराष्ट्र- उदयनराजे भोसले (बीजेपी), रामदास अठावले (आरपीआई), प्रियंका चतुर्वेदी (शिवसेना), राजीव सातव (कांग्रेस), शरद पवार (एनसीपी), फौजिया तहसीन खान (एनसीपी), भगवत किसनराव कराड (बीजेपी)

गुजरात- अभय गनपतराय भारद्वाज (बीजेपी), अमीन नरहारी हीराभाई )बीजेपी), शक्ति सिंह गोहिल (कांग्रेस), रामिला बेचारभाई बारा (बीजेपी)

बिहार- विवेक ठाकुर (बीजेपी), प्रेम चंद गुप्ता (आरजेडी), हरिवंश (जेडीयू), रामनाथ ठाकुर (जेडीयू), अमरेंद्र धारी सिंह (आरजेडी)

राजस्थान- नीरज डांगी (कांग्रेस), राजेंद्र गहलोत (बीजेपी), केसी वेणुगोपाल (कांग्रेस)

हरियाणा- दीपेंद्र सिंह (कांग्रेस), राम चंदर जांगड़ा (बीजेपी)

आंध्र प्रदेश- अयोध्या रामी रेड्डी, परिमल नाथवानी, पिल्ली सुभाषचंद्र बोस और वेंटकरमना राव मोपीदेवी (सभी वाईएसआर कांग्रेस)

Gyan Dairy

कर्नाटक- इरान्ना कडाडी (बीजेपी), एचडी देवगौड़ा (जेडीएस), मल्लिकार्जुन खड़गे (कांग्रेस)

तमिलनाडु- एम थमबिदुरै (एआईडीएमके), केपी मुनुसामी (एआईडीएमके), जीके वासन (टीएमसी-एम), तिरुची शिवा (डीएमके), पी. सेल्वाराशु (डीएमके), एनआर इलांगो (डीएमके)

तेलंगाना- के केशावा राव (टीआरएस), केआर सुरेश रेड्डी (टीआरएस)

छत्तीसगढ़- फुलो देवी नेताम (कांग्रेस) और केटीएस तुलसी (कांग्रेस)

झारखंड- दीपक प्रकाश (बीजेपी), शिबू सोरेन (जेएमएम)

पश्चिम बंगाल- अर्पिता घोष (टीएमसी), मौसम नूर (टीएमसी), दिनेश त्रिवेदी (टीएमसी), सुभ्रता बखशी (टीएमसी). बिकास रंजन भट्टाचार्य (सीपीएम)

ओडिशा- सुभाष चंद्र सिंह (बीजेडी), मुजिबुल्ला खान (बीजेडी), सुजीत कुमार (बीजेडी), ममता मोहंती (बीजेडी)

असम- भुवनेश्वर कालिता (बीजेपी), बिश्वाजीत डाइमेरी (बीपीएफ) और अजित कुमार भुयान (आईएनडी)

अरुणाचल प्रदेश- नाबाम रेबिया (बीजेपी)

मणिपुर- महाराजा सानाजाओबा लिशेम्बा (बीजेपी)

मेघालय- वानवेईरॉय खारलुखी (एनपीपी)।

Share