केरल मूल के बैंकर के पास 500 साल पुराना सोने का कुर’आन

पवित्र कुरआन हर मुस्लिम के लिए खुदा का सबसे बड़ा उपहार है। कुरआन चुंकि रमजान के महीने ही उतरा इसलिए इस महिने में इसको बहुत उत्साह से पढ़ा जाता है। अमुमन कुर आन चमड़े या कागज के बने होते हैं लेकिन अबू धाबी में रहने वाले एक केरल-मूल के बैंकर के पास 500 साल पुराना कुरआन है, जो कि पूरी तरह से सोने बना है। इसे वो केवल रमजान के दौरान ही पढ़ते हैं।

रिपोर्ट में इस कुरआन के कीमत का अनुमान दुर्लभ पांडुलिपियों के हिसाब से 59 डॉलर एमिल (आरएम 2.5 अरब डॉलर) के बराबर माना गया है। उन्होंने यह याद दिलाया कि कुरान को बेचा नहीं जाना चाहिए। लेकिन मेरा उद्देश्य इस्लामी अध्ययन और सांस्कृतिक विरासत के लिए एक केंद्र खोलना है।

खबर के मुताबिक, मोहम्मद हारीस के पास जो गोल्ड टूलींग कुरआन है वह तुर्क शासन काल का है। हरिस ने खालीज टाइम्स के साथ कुरआन के बार में बताया, गोल्ड टूलींग काफी दुर्लभ है क्योंकि यह 28 सेट कलेक्शन में है और प्रत्येक में 1 9 से 20 प्लेट्स है। इतना ही नहीं इस 28 सेटों को 14 सोना मढ़वाया बक्से में रखा गया है। उन 14 बक्सा में से एक मेरे पास है और बाकी मलेशिया में मेरे बहनोई के पास हैं।

Gyan Dairy

बता दें कि हारीश का जन्म केरल के कोझीकोड जिले के नादपुरम में हुआ। उन्होंने एक मलेशियन मलयाली लड़की आएशा काशीम से शादी किया जिससे उनके तीन बच्चें हैं। हारीश करते हैं कि मलेशिया में जो 13 बक्से उनके बहनोई से पास संरक्षित हैं, उसके सुरक्षित रखना काफी मुश्किल काम है।

उन्होंने कहा, इसे मलेशिया से यहां लाने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज प्राप्त करने के लिए मुझे एक साल से अधिक का समय लगा। मेरे पास इसे रखने का सिर्फ पांच साल का अधिकार है। यह मेरे परिवार के लिए सौभाग्य की बात है कि ये हमारे पास है। यह मेरे लिए, मेरे काम की जगह और मेरे परिवार के गुडलक है। उन्होंने कहा, हम जल्द ही इसे एक आभूषण की दुकान पर प्रदर्शनी ले लिए रखेंगे।

Share