सेना की वर्दी में एक शख्स किसान आंदोलन में हुआ शामिल, जांच एजेंसियो ने शुरू की पड़ताल

नई दिल्ली: देश में इन दिनो नए ​कृषि कानूनो के खिलाफ जोर शोर से किसान आंदोलन जारी हैं। वहीं पंजाब में चल रहे किसानों के आंदोलन में सेना की वर्दी में एक शख्स की फोटो वायरल होने के कुछ दिनों बाद जांच एजेंसियों ने पता लगाना शुरू कर दिया है कि तस्वीर में मौजूद शख्स एक सेवारत सैनिक है या दूसरा कोई शख्‍स।

लेफ्टिनेंट जनरल एचएस पनाग (retd), उत्तरी और मध्य कमांड के पूर्व जीओसी-इन-सी ने ट्विटर पर लिखा कि इस मामले की जांच की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सेना के पास स्पष्ट नियम हैं कि सेवारत कर्मी इस तरह के आयोजनों में हिस्सा ना लें।

उन्‍होंने अगले ट्वीट में कहा, “जांच करें और अनुशासनात्मक कार्रवाई करें। सेना के स्पष्ट नियम और कानून हैं, जिनसे कोई समझौता नहीं हो सकता।”

सेना की वर्दी में शख्स की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब धूम मचा रही है और इसे कई अखबारों ने भी छापा है। तस्‍वीर में दिख रहा शख्स सिख है, जोकि एक पोस्‍टर पकड़े हुए देखा जा सकता है, जिसपर लिखा है कि मेरे पिता एक किसान हैं। अगर वह आतंकवादी है तो मैं भी आतंकवादी हूं।

Gyan Dairy

उसने सोमवार को बठिंडा में उपायुक्त कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन में भाग लिया। वह व्यक्ति सेना की वर्दी पहने हुए दिखाई देता है, साथ ही वर्दी पर एक नाम का टैग भी लगा हुआ है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि एक अन्य वीडियो भी सोशल मीडिया पर प्रसारित किया जा रहा है जिसमें एके-47 प्रकार की राइफलों के साथ दो सेना के जवानों ने किसानों के विरोध पर बॉलीवुड अभिनेता कंगना रनौत की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया दी है। अभिनेता की टिप्पणी से बहुत विवाद हुआ था।

सशस्त्र बलों की नियमपुस्तिका सेवारत सैनिकों को विरोध प्रदर्शन में भाग लेने से रोकती है। यह ध्यान दिया जा सकता है कि पंजाब के कई पूर्व सैनिक किसानों के विरोध प्रदर्शन में भाग लेते रहे हैं।

नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर किसान दिल्ली की सीमाओं पर तीन सप्ताह से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

 

Share