आनंद शर्मा और गुलाम नबी पर हमलावर हुए अधीर रंजन चौधरी, कहा-बीजेपी की मदद कर रहे

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव की तिथियां घोषित हो गईं हैं। इस बीच कांग्रेस पार्टी में अंदरूनी कलह तेज हो गई है। पार्टी सांसद आनंद शर्मा ने पश्चिम बंगाल में इंडियन सेक्युलर फ्रंट के साथ गठबंधन के गठबंधन का खुलकर विरोध किया था। इसको लेकर सांसद और लोकसभा में नेताप्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने आनंद शर्मा पर बड़ा हमला किया है। अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि आनंद शर्मा बीजेपी को फायदा पहुंचा रहे हैं।

बता दें कि आनंद शर्मा ने सोमवार को बंगाल में अब्बास सिद्दीकी के नेतृत्व वाले आईएसएफ के साथ पार्टी के गठबंधन पर कहा था कि यह पार्टी की मूल विचारधारा, गांधीवादी और नेहरूवादी धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ है। आनंद शर्मा ने कहा कि पार्टी सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई में सिलेक्टिव नहीं हो सकती है। हमें सांप्रदायिकता के हर रूप से लड़ना है।’

इसको लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता और नेता प्रतिप​क्ष अधीर रंजन चौधरी ने आनंद शर्मा पर निशाना साधते हुए चार ट्वीट किए जिसका शीर्षक, ‘नो योर फैक्ट्स’ था। उन्होंने पहले ट्वीट में लिखा, ‘सीपीआई (एम) के नेतृत्व वाला वाम मोर्चा पश्चिम बंगाल में धर्मनिरपेक्ष गठबंधन का नेतृत्व कर रहा है जिसका कांग्रेस एक अभिन्न अंग है।’

अधीर रंजन ने कहा कि ‘कांग्रेस को अपने हिस्से की पूरी सीटें मिलीं। लेफ्ट फ्रंट अपने कोटे से हाल में बने इंडियन सेक्युलर फ्रंट को-आईएसएफ को सीटें दे रहा है। सीपीएम के नेतृत्व वाले गठबंधन को सांप्रदायिक बताने का आपका फैसला सिर्फ बीजेपी की ध्रुवीकरण के एजेंडे को फायदा पहुंचा रहा है।’

Gyan Dairy

अधीर रंजन चौधरी ने आगे लिखा कि ‘जो बीजेपी और उससे जुड़ी पार्टियों के खिलाफ लड़ना चाहते हैं उन्हें बीजेपी के एजेंडा को सूट करने वाले बयान देने की बजाय पांचों चुनावी राज्यों में कांग्रेस का समर्थन और प्रचार करना चाहिए’।

अपने आखिरी ट्वीट में अधीर रंजन चौधरी ने बिना नाम लेते हुए गुलाम नबी आजाद पर भी निशाना साधा और कहा कि कांग्रेसियों को पीएम की प्रशंसा करने में समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। उनका फर्ज पार्टी को मजबूत बनाने का है न कि उस पेड़ को काटने का जिसने उन्हें पाला-पोसा।

Share