UA-128663252-1

बॉलीवुड में हो रही ड्रग्स तस्करी के बाद अब दिल्ली समेत कई राज्यों में NCB की छापेमारी

नई दिल्‍ली: बॉलीवुड में सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उजागर हुए ड्रग्स तस्करी को लेकर NCB अब काफी सक्रिय है, एनसीबी ने कई राज्यों में छापेमारी की है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबित, छापेमारी में बॉलीवुड का बड़ा कनेक्शन सामने आया है। न्यूज 24 को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी में पता चला है कि कई ड्रग्स तस्करों का संपर्क सीधे बॉलीवुड से है। खबर तो ये भी है कि NCB जल्द बहुत बड़ी कार्रवाई कर सकती है।

मुंबई में ड्रग्‍स मामले में अभी तक लगभग 20 लोगों को गिरफ्तार किया। ऐसे में एनसीबी की टीम राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और अन्य महानगरों में बड़े पैमाने पर नशीली दवाओं के दुरुपयोग पर अपना ध्यान केंद्रित करेगी।

इस तरह के एक ऑपरेशन में ड्रग्‍स उपभोक्ताओं के लिए अनिश्चितता भी होता है, जो पता नहीं लगाया जा सकता है कि वे कब खरीददारी करते हैं। 2019 में सरकार द्वारा जारी ड्रग्‍स की खपत पर एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण के अनुसार, दिल्ली राज्यों के छोटे समूह में से एक था। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश ड्रग्‍स की खपत वाले बड़े राज्‍य हैं।

इस सर्वेक्षण से यह भी पता चला कि भारत में ड्रग्‍स समस्या कितनी बड़ी थी। इस सर्वेक्षण के अनुसार, NCB के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा क‍ि देश की 2.1% आबादी ने ओपिओइड का उपयोग किया है, जो वैश्विक औसत 0.7% और गुना एशिया के चार 0.46% है।

Gyan Dairy

NCB का अनुमान है कि ओपीओइड का उपयोग करने वाले 77 लाख लोगों में से केवल 20 लाख लोग आश्रित हैं, जो प्रतिदिन न्यूनतम 0.5 ग्राम हेरोइन का उपभोग करते हैं, तो देश में प्रतिदिन हेरोइन की औसत खपत 1000 किलोग्राम प्रति दिन है। इसका मतलब है कि प्रति वर्ष न्यूनतम 360 टन (अपेक्षाकृत शुद्ध) हेरोइन की मांग है। हेरोइन की इस आवश्यकता का अंतर्राष्ट्रीय मूल्य 1,44,000 करोड़ रुपये है।

इस विशाल आवश्यकता के विपरीत कानून प्रवर्तन एजेंसियां 2019 में केवल 2.4 टन हेरोइन जब्त करने में सक्षम थीं, जिस वर्ष राष्ट्रव्यापी अध्ययन प्रकाशित हुआ था। अधिकारियों ने कहा कि वे ड्रग तस्करों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली अंतरराष्ट्रीय आपूर्ति सीरीज को खत्म करने के लिए काम कर रहे हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, रूस, यूनाइटेड किंगडम और दक्षिण अफ्रीका में ड्रग प्रवर्तन एजेंसियों से वास्तविक समय की जानकारी साझा करना और प्राप्त करना शुरू कर दिया गया है।

Share