DRDO द्वारा विकसित अग्नि-प्राइम मिसाइल का सफल परीक्षण, 2,000 KM है मारक क्षमता

नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित अग्नि प्राइम मिसाइल का आज सुबह सफल परीक्षण किया गया। वैज्ञानिकों ने सोमवार की सुबह 10 बजकर 55 मिनट पर ओडिशा के डॉ अब्दुल कलाम टापू पर अग्नि-प्राइम मिसाइल का सफल परीक्षण किया। ये मिसाइल परमाणु-सक्षम है और पूरी तरह से कम्पोजिट मैटिरियल से बनी हुई है। हालांकि इस मिसाइल के परीक्षण के बाद विश्व के कई देश नाराजगी जाहिर कर सकते हैं।

वैज्ञानिकों के अनुसार इस मिसाइल की मारक क्षमता 1 हजार से 2 हजार किलोमीटर तक की है। इस मिसाइल से दुश्मनों के वॉरशिप 2,000 किलोमीटर दूर तक ध्वस्त किए जा सकेंगे। खास बात ये है कि अग्नि-प्राइम परमाणु हथियारों के साथ हमला करने में सक्षम है। अग्नि-प्राइम मिसाइल को जल्द ही सेना में शामिल किया जा सकता है। बता दें कि भारत ने पहली बार साल 1989 में अग्नि मिसाइल का परीक्षण किया था। उस समय अग्नि मिसाइल की मारक क्षमता तकरीबन 700 से 900 किलोमीटर थी। इसके बाद साल 2004 में इसे भारतीय सेना में शामिल किया गया था।

Gyan Dairy

 

Share