एंटीलिया केस: वसूली के आरोपों से घिरे महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने दिया इस्तीफा

मुंबई। देश के सबसे अमीर शख्स और रिलायंस इंड्रस्टीज के मुखिया अनिल अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर संदिग्ध कार मिलने के बाद महाराष्ट्र की सियासत में आए उबाल ने आज राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख की कुर्सी छीन ली। मुंबई के पुलिस कमिश्नर पद से हटाए जाने के बाद आईपीएस अफसर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपये प्रतिमाह की वसूली कराने का आरोप लगाया था। एनसीपी नेता अनिल देशमुख ने पार्टी प्रमुख शरद पवार के घर पर हुई बैठक के बाद अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को सौंप दिया है। दरअसल गृहमंत्री के इस्तीफे की अटकलों ने सोमवार को उस समय जोर पकड़ लिया था जब बॉम्बे हाईकोर्ट ने सीबीआई को पूरे मामले की जांच के आदेश दिए थे।

Gyan Dairy

एनसीपी के बड़े नेता और उद्धव सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने बताया कि बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के बाद अनिल देशमुख ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की और अपने पद से इस्तीफा देने की इच्छा जताई। शरद पवार की सहमति के बाद अनिल देशमुख ने बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले का सम्मान करने के लिए अपना इस्तीफा दे दिया।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भेजे गए अपने इस्तीफे में अनिल देशमुख ने कहा कि उन्हें बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश के बाद गृह मंत्री के रूप में बने रहना नैतिक रूप से सही नहीं लगता है। बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले के तुरंत बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार और डिप्टी सीएम अजित पवार के बीच में बैठक हुई। शरद पवार के मुंबई स्थित घर पर हुई इस मीटिंग में अनिल देशमुख और सुप्रिया सुले भी मौजूद थीं। बैठक में इस पूरे मुद्दे पर विस्तार से चर्चा की गई क्योंकि एनसीपी और एमवीए सरकार के लिए यह शर्मनाक होगा यदि गृह मंत्री को सीबीआई जांच के लिए बुलाया जाता है।

Share