अर्नब गोस्वामी को बॉम्बे HC से नहीं मिली राहत, कल दोबारा होगी सुनवाई

मुंबई। रिपब्लिक मीडिया ग्रुप के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी की मुश्किलें कम होने हो रही हैं। अर्नब गोस्वामी को गुरुवार को बॉम्बे हाई कोर्ट से कोई राहत नहीं मिली। हाईकोर्ट शुक्रवार को मामले की फिर से सुनवाई करेगा। अर्नब गोस्वामी ने अपनी गिरफ्तारी को गैरकानूनी बताते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में गोस्वामी ने तुरंत रिहा किए जाने की मांग की है।

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी के वकील वरिष्ठ एडवोकेट ऐबाद पोंडा ने कोर्ट से कहा कि 2018 में पुलिस ने केस को बंद कर दिया था। यह मामला बिना कोर्ट के आदेश के पुलिस फिर से नहीं खोल सकती है। पोंडा ने कहा कि यह (मजिस्ट्रियल आदेश समरी रिपोर्ट को स्वीकार करने और मामले को बंद करने) ताबूत में एक कील था।” उन्होंने जोर देकर कहा कि अदालत के आदेश के बिना मामले को फिर से नहीं खोला जा सकता है।

वरिष्ठ एडवोकेट ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि ‘बंद हो चुके केस’ में अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पूरी तरह से गैरकानूनी है। उन्होंने कोर्ट से आग्रह किया कि रिपब्लिक टीवी के एडिटर को तुरंत रिहा किया जाए। उन्होंने कहा कि हाई कोर्ट के पास राज्य द्वारा किसी भी नागरिक के साथ गलत व्यवहार किए जाने से रोकने के लिए पर्याप्त पूर्ण शक्तियां हैं।

Gyan Dairy

अर्नब गोस्वामी के एडवोकेट ने आगे कहा कि यह पुलिस की ताकत का दुरुपयोग किए जाने का उदाहरण है और इस हिरासत को एक सेकेंड के लिए भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने अर्नब गोस्वामी को तुरंत रिहा करने की भी मांग की। वहीं, जस्टिस एसएस शिंदे और जस्टिस एमएस कार्णिक की बेंच ने बिना राज्य और शिकायतकर्ता को सुने कोई भी आदेश पारित करने से इनकार कर दिया। सुनवाई के बाद हाई कोर्ट की बेंच ने राज्य सरकार और शिकायतकर्ता अदन्या नाईक को भी नोटिस जारी किया है।

Share