पीएम मोदी ने देश को समर्पित किए दो राष्ट्रीय संस्थान, कहा-आयुर्वेद की मांग कोरोना काल में बढ़ी

नई दिल्ली। आयुर्वेद दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने दो आयुर्वेद संस्थानों को समर्पित किया है। पीएम ने गुजरात के जामनगर के आयुर्वेद अध्यापन एवं अनुसंधान संस्थान (आईटीआरए) और जयपुर के राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान (एनआईए) का उद्घाटन किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में आयुर्वेद का बहुत ही महत्व रहा। आयुर्वेद दिवस पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन, पारंपरिक दवाओं पर शोध को मजबूत करने के लिए भारत में पारंपरिक चिकित्सा पर डब्ल्यूएचओ ग्लोबल सेंटर की स्थापना कर रहा है।

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आयुर्वेद हामारी परंपरा है और कोरोना काल में आयुर्वेद की परंपरा से देश को फायदा मिला। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी काल में हल्दी समेत कई अन्य चीजों में इम्यूनिटी बूस्टर का काम किया है। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में आज दुनिया भर में लोग आयुर्वेद को लेकर बात करत रहे हैं, वह इसके बारे में जानना चाहते हैं। आयुर्वेद को लेकर दुनिया में रिसर्च हो रही है।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि देश में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। इसके साथ ही करीब सौ से अधिक जगहों पर आयुर्वेद की मेडिसिन को लेकर भी रिसर्च चल रही है। बता दें कि, आयुष मंत्रालय 2016 से ही धन्वंतरि जयंती के मौके पर हर साल आयुर्वेद दिवस मनाता आ रहा है। इस साल यह शुक्रवार को है। मंत्रालय के अनुसार संसद के कानून से हाल ही में बने जामनगर का आईटीआरएस विश्वस्तरीय स्वास्थ्य देखभाल केंद्र के रूप में उभरने वाला है । उसमें 12 विभाग, तीन क्लीनिकल प्रयोगशालाएं और तीन अनुसंधान प्रयोगशालाएं हैं।

Gyan Dairy

 

Share