बैंकों के 12 बड़े कर्जदारों में शामिल पूर्व कोंग्रेसी सांसद की कंपनी होगी दिवालिया घोषित

आरबीआई द्वारा बैंकों के 12 कर्जदारों का खुलासा करने के बाद अब उनपर कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इन कंपनियों पर इंडियन बैंकरप्सी कोड के तहत कार्रवाई की जाएगी। इन 12 कंपनियों में कांग्रेस के पूर्व सांसद मधुसूदन राव की कंपनी लैंको इंफ्राटेक पहली ऐसी कंपनी होगी जिसे बैंक दिवालिया घोषित करेंगे।

ये कंपनियां है भूषण स्टील लिमिटेड, भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड, एस्सार स्टील लिमिटेड, जेपी इंफ्राटेक लिमिटेड, लैनको इंफ्राटेक लिमिटेड, मोनेट इस्पात एंड एनर्जी लिमिटेड, ज्योति स्ट्रक्चर लिमिटेड, इलेक्ट्रोस्टील स्टील्स लिमिटेड, एमटेक ऑटो लिमिटेड, एरा इंफ्रा इंजीनियरिंग लिमिटेड, आलोक इंडस्ट्रीज लिमिटेड शामिल हैं।

रिज़र्व बैंक ने आईडीबीआई बैंक को लोन रिकवर करने के लिए दिवालिये की प्रक्रिया शुरु करने के निर्देश दिए हैं। इस खबर के बाद लैंको के शेयरों में  30 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। बता दें कि लैंको पर कुल कर्ज 17,000 करोड़ रूपये का है। आरबीआई ने जिन 12 कंपनियों की पहचान की है उनमे ज्यादातर स्पात कंपनियां हैं।

कंपनी का कहना है कि 31 मार्च 2017 की स्थिति के अनुसार समूह को विभिन्न राज्य विद्युत कंपनियों तथा दूसरे ग्राहकों से बिजली आपूर्ति के एवज में 1,377.30 करोड़ रपये लेने हैं। मौजूदा शुद्ध देनदारी 2,419.86 करोड़ रपये और दीर्घकालिक उधार की वर्तमान परिपक्वता राशि 3,458.32 करोड़ रपये रही है।

Gyan Dairy

लैंको की बीते वित्त वर्ष की आय 7,343.69 करोड़ रपये रही जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में उसका कुल कारोबार 8,098.47 करोड़ रपये रहा था।

किस कंपनी कर कितना कर्ज  भूषण स्टील (44,885 करोड़ रुपए),  एस्सार स्टील (37,284 करोड़ रुपए),  भूषण पावर एंड स्टील (37,248 करोड़ रुपए),  आलोक इंडस्ट्रीज (22,075 करोड़ रुपए),  एमटेक ऑटो (14,074 करोड़ रुपए)  मोनेट इस्पात (12,115 करोड़ रुपए) पर कर्ज हैं।

Share