बलरामपुर गैंगरेप: पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ दरिंदगी का खुलासा, रो दिए डॉक्टर

नई दिल्ली। यूपी के बलरामपुर में गैंगरेप की शिकार दलित छात्रा के साथ हैवानों ने दरिंदगी की इंतेहां पार की थी। उसकी मौत आंत फटने से हुई है। दुष्कर्म की पुष्टि के बाद छात्रा की स्लाइड जांच के लिए भेजा गया है। छात्रा की मां को डीएम ने छह लाख 18 हजार 750 रुपए का चेक अहेतुक सहायता के रूप में दिया है। बुधवार देर रात परिजनों ने पुलिस की मौजूदगी में छात्रा का अंतिम संस्कार कर दिया।

जानकारी के मुताबिक कोतवाली क्षेत्र में रहने वाली 22 वर्षीय छात्रा मंगलवार सुबह दस बजे घर से करीब दो किलोमीटर दूर बिमला विक्रम डिग्री कॉलेज में बीकॉम प्रथम वर्ष में दाखिला कराने गई थी। रास्ते में गैसड़ी बाजार निवासी शाहिद (23) पुत्र हबीब व साहिल (16) पुत्र हमीदुल्ला उसे अगवाकर अपने घर ले गए थे। वहां दोनों ने उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया। छात्रा की हालत बिगड़ी तो प्राइवेट डॉक्टर बुलाकर उसका घर पर इलाज कराया। देर शाम छात्रा को रिक्शे पर बैठा कर उसके घर भेज दिया। परिजन उसे तुलसीपुर सीएचसी ले जा रहे थे लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। घटना के बाद पुलिस आंख बंद किए बैठी रही।

पोस्टमार्टम के लिए तीन चिकित्सकों का पैनल बनाया गया। सीएमओ डा. घनश्याम सिंह स्वयं भी मौजूद रहे। बुधवार देर रात पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई जिसमें गैंग रेप की पुष्टि हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण आंत का फटना बताया गया है। छात्रा के शरीर में कई जगह हरे रंग के स्पॉट मिले। चिकित्सकों के मुताबिक आंत में अत्यधिक रक्त जमा होने से शरीर पर यह निशान उभरे हैं। डीएम कृष्णा करुणेश ने बताया कि छात्रा के शरीर पर कहीं भी चोट के निशान नहीं मिले हैं। पुलिस ने देर रात केस दर्ज कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

Gyan Dairy

देर रात छात्रा का शव परिजनों को सौंप दिया गया। उनकी सहमति पर रात में ही उसकी अंत्येष्ठि कर दी गई। लोगों का आक्रोश देखते हुए अंत्येष्ठि स्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल लगाई गई थी। काफी संख्या में लोग अंत्येष्ठि में शामिल हुए। गुरुवार सुबह सात बजे डीएम कृष्णा करुणेश, एसपी देवरंजन वर्मा, शक्तिपीठ देवीपाटन मंदिर के महंत मिथलेश नाथ योगी, तुलसीपुर एसडीएम विनोद कुमार सिंह कलहंस पीड़िता के घर पहुंच गए।

Share