बेंगलूरू: आयकर विभाग का छापा, 200 करोड़ के कालेधन का खुलासा

आयकर विभाग ने बेंगलूरु शहर में एक ऋण सहकारी समिति के ठिकानों पर छापा मारकर नोटबंदी के बाद कालेधन के लेनदेन के एक बड़े गोरखधंधे का पर्दाफाश करने और 200 करोड़ रुपये के संदिग्ध सौदों का पता लगाने का दावा किया है. विभाग का कहना है कि यह समिति कथित तौर पर एक चिट फंड चला रही थी और इस कार्रवाई में 200 करोड़ रुपये के संदिग्ध लेन देन का मामला सामने आया है.

आयकर विभाग द्वारा तैयार रपट के अनुसार इस ऋण सहकारी समिति का मुख्यालय मल्लेश्वरम में है. इसने अपनी सदस्यता 30,000 दिखायी थी और 200 करोड़ रुपये की जमा दर्ज की थी. इसमें 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा से पहले की जमा राशि भी शामिल है. आठ नवंबर के बाद देखा गया कि इस संस्था में भारी मात्रा में नकद जमाएं प्राप्त की गयीं और ऋण के भुगतान किये गये.

विभाग के अनुसार इसमें उसका मुख्य कार्यकारी भी शामिल था. कर अधिकारियों ने वी के्रडिट कोआपरेटिव सोसायटी नाम की इस संस्था की पांच शाखाओं पर खोजबीन की कार्रवाई की और इसकी गड़बडि़यों के बारे में रिजर्व बैंक, प्रवर्तन निदेशालाय, सीबीआई और राज्य सरकार के अधिकारियों को को सूचना दी है. इसकी स्थापना 1990 की बतायी गयी है.

Gyan Dairy

बताया गया है कि यह समिति अपने ग्राहक को जानों (केवाईसी) के नियमों का पालन नहीं कर रही थी और न ही खाताधारकों के पैनकार्ड आदि रखती थी. आयकार विभाग को शक है कि यह सब धन के वास्तविक मालिकों की पहचान छुपाने के लिए किया गया होगा.

Share